--Advertisement--

सफाई के दौरान अटेंडेंट को किया बाहर; जुड़वां बच्चों को संभालने उठी प्रसूता पलंग से गिरी, मौत

अस्पताल प्रबंधन पर लगाए आरोप, परिजनों ने काटा हंगामा

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 04:01 AM IST
इनके सिर से छिना मां का साया। (इ इनके सिर से छिना मां का साया। (इ

भोपाल. सुल्तानिया अस्पताल के आबिदा वार्ड की साफ-सफाई ने दो मासूमों से उनकी मां छीन ली। यह आरोप मृतक के पति ने अस्पताल प्रबंधन पर लगाए हैं। परिजनों का कहना है कि वार्ड की सफाई की वजह से प्रसूता के साथ रहने वाले सभी अटेंडेंट को बाहर निकला दिया था। इसी दौरान महिला दो नवजात को संभालने उठी और पलंग से गिर गई, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया।

परिजनों ने पीएम कराने से किया इनकार: दरअसल, महिला ने मंगलवार को नार्मल डिलवरी से दो लड़कों को जन्म दिया था। हालांकि अस्पताल प्रबंधन ने अस्पताल में ऐसी कोई भी घटना होने से इंकार किया है। इधर परिजनों ने महिला का पोस्टमार्टम करने से इंकार कर दिया, जिसकी वजह से मर्ग कायम नहीं हो सका।

परिजन बोले- वार्ड में अटेंडेंट होते तो बच जाती जान: पीपलखेड़ा निवासी मतीन खान के मुताबिक उसकी पत्नी नसरीन खान को सोमवार को सुल्तानिया में भर्ती किया था। उसे मंगलवार को नाॅर्मल डिलेवरी से जुड़वां बच्चे हुए थे। वह गुरुवार सुबह तक बिलकुल ठीक थी। आठ बजे वार्ड की सफाई के लिए प्रसूताओं के अटेंडेंट को आविदा वार्ड तीन से बाहर कर दिया। किसी भी अटेंडेंट को अंदर नहीं रुकने दिया। इस दौरान महिला अपने जुड़वां बच्चों को संभालने के लिए उठी तो पलंग से सिर के बल गिर पड़ी।

परिजनों ने कहा- कोई अटेंडेंट होती तो वह न गिरती और न जान जाती: सुबह 11 बजे तक इलाज करने के बाद में डाॅक्टरों ने परिजनों को बताया कि नसरीन की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि यदि उसके साथ कोई अटेंडेंट होती तो वह नहीं गिरती और जान नहीं जाती। इधर, अस्पताल अधीक्षक अजय शर्मा का कहना है कि महिला पोस्टपार्टम हेमरेज के बाद कुरावर से यहां रैफर होकर आई थी। उसका इलाज विशेषज्ञों ने किया, इसके बाद भी उसे बचाया नहीं जा सका।