मप्र / दिग्विजय सिंह ने कहा- भाजपा और बजरंग दल पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से पैसा ले रहे

X

  • दिग्विजय बोले- युवा होना चाहिए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, आखिरी फैसला सोनिया गांधी को करना है
  • कहा- हांगकांग में आंदोलन का नेतृत्व 22 और 26 साल के लड़के कर रहे हैं... तो बताओ किसको होना चाहिए अध्यक्ष

दैनिक भास्कर

Sep 01, 2019, 10:54 AM IST

ग्वालियर/भिंड/भोपाल. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा और बजरंग दल पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से पैसा लेने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि आईएसआई के लिए जासूसी करने वाले मुस्लिम कम गैर मुस्लिम ज्यादा हैं। सिंह शनिवार को भिंड में मीडिया से चर्चा कर रहे थे। वे यहां महाराणा प्रताप की प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए थे। 

 

 

ये भी पढ़ें

Yeh bhi padhein

 

इससे पहले ग्वालियर में मीडिया से चर्चा के दौरान सिंह ने प्रदेश कांग्रेस का नया अध्यक्ष 25-26 साल के किसी युवा को बनाए जाने के संकेत देकर नई बहस छेड़ दी है। जब उनसे सवाल किया गया कि प्रदेश कांग्रेस का नया अध्यक्ष कैसा होना चाहिए? युवा या कोई वरिष्ठ नेता। दिग्विजय ने कहा- ‘आपने हांगकांग के बारे में तो सुना होगा, वहां 22 और 26 साल के लड़के आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं... बताओ किसको होना चाहिए।’

 

उन्होंने कहा कि जिस दिन सोनियाजी तय कर लेंगी, उस दिन अध्यक्ष चुन लिया जाएगा। अभी पोस्ट खाली नहीं है। कमलनाथ अध्यक्ष हैं। खुद को प्रदेश अध्यक्ष बनाने के सवाल पर दिग्विजय उत्तर टाल गए। दिग्विजय के साथ मौजूद सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह से जब नए अध्यक्ष के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने  कहा कि मेरे कहने से क्या कोई किसी को अध्यक्ष बनाएगा। कांग्रेस में लोकतंत्र जिंदा है और हर व्यक्ति को अपनी बात कहने का हक है। कांग्रेस में कोई गुलाम तो नहीं है।

 

इधर, निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह ठाकुर ‘शेरा’ ने भी प्रदेशाध्यक्ष बनने की इच्छा जताई है। उन्होंने कहा कि मैं दो पार्टियों के उम्मीदवारों को हराकर विधायक बना हूं।

 

ग्वालियर कांग्रेस कमेटी ने दिल्ली भेजा सिंधिया के नाम का प्रस्ताव

ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेशाध्यक्ष की कमान सौंपे जाने को लेकर उनके समर्थक दिनभर सक्रिय रहे। ग्वालियर कांग्रेस कमेटी ने पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस बारे में प्रस्ताव पारित कर भेजा है। मंत्री इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर के बाद परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने भी कहा कि सिंधिया की गिनती प्रदेश के बड़े नेताओं में होती है। प्रदेश अध्यक्ष बनने या न बनने का निर्णय उनको और पार्टी हाईकमान को लेना है। जहां तक कार्यकर्ताओं का भावुक होना सतत प्रक्रिया है। यह नेता के प्रति उनके लगाव को दर्शाता है। राजपूत ने कहा कि अध्यक्ष का निर्णय जल्दी होना चाहिए। प्रदेश का नया अध्यक्ष युवा और ऊर्जावान होना चाहिए।

 

दिल्ली में दिनभर चर्चाओं का दौर जातिगत समीकरणों का भी ध्यान

दिल्ली में भी प्रदेशाध्यक्ष को अलग-अलग चर्चाओं के दौर चलते रहे। अध्यक्ष पद को लेकर बड़े नेताओं के बीच चल रही रस्साकसी के बीच केंद्रीय नेतृत्व द्वारा बीच का रास्ता निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इस दौरान ऐसे नामों पर भी चर्चा हो रही है जिस पर सर्वसम्मति बन जाए। इसमें जातिगत समीकरणों का ध्यान भी रखा जा रहा है। इस बीच दो बार के पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी का भी चर्चा में आया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना