• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • MP CAA BJP Rally [Updates]; Digvijay Singh, Shivraj Singh Chouhan on BJP Workers Citizenship Amendment law CAA Tiranga Yatra in Biaora

मप्र / ब्यावरा में पुलिस-प्रदर्शनकारियों में झड़प: दिग्विजय ने कहा भाजपा की गुण्डागर्दी सामने आई, शिवराज ने एफआईआर की मांग की

दिग्विजय सिंह एवं शिवराज सिंह। दिग्विजय सिंह एवं शिवराज सिंह।
बंसल अस्पताल में भर्ती भाजपा व्यापारिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक दीपकमल शर्मा हाल जानते विधायक रामेश्वर शर्मा। बंसल अस्पताल में भर्ती भाजपा व्यापारिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक दीपकमल शर्मा हाल जानते विधायक रामेश्वर शर्मा।
X
दिग्विजय सिंह एवं शिवराज सिंह।दिग्विजय सिंह एवं शिवराज सिंह।
बंसल अस्पताल में भर्ती भाजपा व्यापारिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक दीपकमल शर्मा हाल जानते विधायक रामेश्वर शर्मा।बंसल अस्पताल में भर्ती भाजपा व्यापारिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक दीपकमल शर्मा हाल जानते विधायक रामेश्वर शर्मा।

  • पुलिस ने 124 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का केस दर्ज किया
  • डिप्टी कलेक्टर को लात मारने और चोटी पकड़ कर मारपीट करने वाले 2 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

Dainik Bhaskar

Jan 20, 2020, 05:13 PM IST

ब्यावरा. नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रविवार को तिरंगा महारैली में प्रशासनिक अधिकारियों और प्रदर्शनकारियों की झड़प के बाद भाजपा और कांग्रेस के बीच राजनीति शुरू हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर पर केस दर्ज करने की मांग की है। वहीं, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस पूरे घटनाक्रम को भाजपा की गुण्डागर्दी करार दिया है। भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल मामले की जांच के लिए आज ब्यावरा का दौरा किया। दो घायलों को भोपाल के बंसल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

पुलिस ने 124 प्रदर्शनकारियों के खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन का केस दर्ज किया है। वहीं, डिप्टी कलेक्टर को लात मारने पर दो लोगों के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा समेत मारपीट करने की रिपोर्ट दर्ज कराई है। अब तक 17 भाजपा कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है। कस्बे में सुरक्षाबल तैनात किया गया है। धारा-144 का कड़ाई से पालन कराया जा रहा है। 

रविवार को रैली निकालने को लेकर विवाद हुआ था

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में रविवार को दोपहर 1 बजे शहर में 10 संगठनों ने महारैली निकालने का ऐलान किया था। इसके लिए सुबह 11 बजे से ही पूर्व तय कार्यक्रम के अनुसार मां वैष्णोदेवी मंदिर परिसर में लोगों की भीड़ जमा होने लगी थी। वहां तैनात पुलिस कर्मियों ने इसकी जानकारी आला अधिकारियों को दी तो कलेक्टर मौके पर पहुंचीं। महारैली को रोकने खुद कलेक्टर ने भीड़ में लोगों को पकड़ पकड़कर थप्पड़ मारे। रैली को रोकने की कोशिश में कलेक्टर निधि निवेदिता ने राजगढ़ के पूर्व भाजपा विधायक अमरसिंह यादव की कॉलर पकड़कर खदेड़ा। उग्र भीड़ ने महिला डिप्टी कलेक्टर की चोटी पकड़कर कमर पर लात और घूंसे मारे। भीड़ को संभालने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया, जिसमें 3 नेता घायल हो गए।

भाजपा कांग्रेस में आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू

  • भाजपा नेता शिवराज सिंह ने इस घटना को लोकतंत्र का काला दिन करार दिया है। कहा- वे खुद 22 जनवरी को ब्यावरा जाएंगे। कहा- अगर कलेक्टर और डिप्टी कलेक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की गई तो भाजपा कोर्ट में जाएगी।
  • दिग्विजय सिंह ने कहा- 'महिला जिला कलेक्टर और महिला एसडीएम अधिकारियों को पीटा गया, बाल खींचे गए। महिला अधिकारियों की बहादुरी पर हमें गर्व है।'
  • घटना की जांच करने भाजपा का एक प्रतिनिधिमंडल पूर्व मंत्री और विधायक विश्वास सारंग के नेतृत्व में राजगढ़ पहुंचा। विधायक विश्वास सारंग ने राजगढ़ में कहा कि इसकी पूरी स्क्रीप्ट पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने लिखी थी। उन्होंने इस घटना की तुलना जलियांवाला बाग हत्याकांड से की। प्रतिनिधि मंडल की रिपोर्ट के बाद भाजपा के बड़े नेता शिवराज सिंह के नेतृत्व में ब्यावरा जाएंगे।
  • भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस सरकार में धारा -144 की दो परिभाषाएं चल रही हैं। भोपाल में भारत टॉकीज पर सीएए के विरोध में धारा 144 के बीच बैठे लोगो पर 48 घंटे पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। रोज़ भारत टॉकीज पर जाम लग रहा है और लोग परेशान हो रहे हैं। परन्तु राजगढ़ जिले में हाथों में तिरंगा थामे भारत माता की जय बोलने वालों से संविधान खतरे में आ गया कानून व्यवस्था बिगड़ने लगी। भाजपा कार्यकर्ताओं की किस तरह पिटाई की गई ये सबने देखा है। उन्होंने कहा कि 17 जनवरी को इंदौर में सीएए का विरोध करने वालो द्वारा की गयी आगजनी पर कार्यवाही करने वाले पुलिस अधिकारियों को को लाइन हाज़िर कर दिया गया।

सोशल मीडिया छाया पर छाई रहीं डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा

सोमवार को दिनभर पूरा मामला सोशल मीडिया छाया रहा। डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा द्वारा मारे गए थप्पड़ या फिर उनके साथ की गई कार्यकर्ताओं द्वारा अभद्रता को लेकर ट्विटर पर जंग छिड़ गई। 24 घंटे के अंदर ही प्रिया वर्मा को एक लाख से ज्यादा लोग ट्रेन कर चुके हैं। इसमें बात चाहे उनके पक्ष में बात करने वाले लोगों की हो या फिर उनका विरोध करने वाले दोनों ही मामलों में देश के टॉप टेन में उन्हें सर्च किया जाता रहा। इसी तरह कलेक्टर निधि निवेदिता को भी हजारों लोग ट्रेंड कर चुके है। डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ओबीसी वर्ग से आती हैं और इंदौर मांगलिया की रहने वाली हैं। उनके पिता का नाम महेश वर्मा है और यह कलार समाज से ताल्लुक रखती हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना