--Advertisement--

12 से 16 अगस्त तक कम, 20 से 23 तक फिर तेज बारिश; पांच मॉडल्स की स्टडी के बाद मौसम विशेषज्ञों का अनुमान

सिस्टम मजबूत रहा तो 14-15 को होगी बारिश, नहीं तो एक सप्ताह का इंतजार

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 02:01 PM IST
Fast rain from three days till August 20

भोपाल. मानसून के एक- दो दिन सक्रिय रहने के बाद मौसम के तेवर फिर नरम पड़ गए। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि 13 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में एक सिस्टम बन रहा है। यदि यह स्ट्रांग रहा और इस तरफ आया तो ही यहां 14-15 अगस्त से बारिश हो सकती है। सिस्टम कमजोर रहा तो फिर अगले एक हफ्ते तक बारिश की गुंजाइश नहीं है। शनिवार को अगस्त के दस दिन बीत जाएंगे। इन दस दिनों में एक इंच भी पानी नहीं बरसा। दो दिन पहले सुबह से शाम तक सिर्फ 17 मिमी बारिश हुई थी। यह भी एक इंच में 8 मिमी कम थी। अगस्त की सामान्य बारिश यानी महीने का कोटा 16.10 इंच है। इसे पूरा होने के लिए अब अगले 21 दिन में 15.2 इंच बारिश की जरुरत पड़ेगी।

दिन में पड़ी फुहारें, 4 डिग्री लुढ़का तापमान: शहर में शुक्रवार को अलग- अलग इलाकों में कभी सुबह तो कभी दोपहर में फुहारें पड़ीं। इस वजह से मौसम में ठंडक घुल गई थी। दिन का तापमान 4 डिग्री लुढ़का। दिन का तापमान 25.3 डिग्री दर्ज किया गया। गुरुवार को मौसम साफ रहने से दिन में पारा 29.3 डिग्री तक पहुंच गया था। लगातार नमी बनी रहने से दिन में रात जैसी ठंडक है। शुक्रवार को दिन और रात के तापमान में सिर्फ 1.5 डिग्री का अंतर रहा। रात का तापमान 23.8 डिग्री दर्ज किया गया।

पिछले साल भी अगस्त में 5.04 इंच ही हुई थी बारिश: पिछले साल भी अगस्त में सिर्फ 5.04 इंच बारिश ही हुई थी। इसी वजह से पूरे सीजन में बड़े तालाब का लेवल भी सिर्फ तीन फीट बढ़ सका था।

ऐसे समझें बारिश कम और ज्यादा क्यों?
- 12 से 16 अगस्त के बीच एम्टीट्यूड यानी मौसम की टेंडेंसी का आयाम डाउन ट्रेंड में जा रहा है। इससे यह संकेत मिलते हैं कि इस दरम्यान बारिश की गतिविधि कम होती जाएगी।
- इस दौरान उत्तर भारत व उससे सटे मैदानी इलाकों में तो बारिश होगी, लेकिन मप्र में इसका असर नहीं होगा।
- बारिश के लिए जरुरी समझी जाने वाली मानसून ट्रफ लाइन 20 से 23 अगस्त तक नीचे की तरफ यानी मध्य भारत की ओर आने के संकेत हैं। इस दौरान टेंडेंसी अनुकूल होने से तेज बारिश के आसार बन रहे हैं।

प्रदेश में अब तक बारिश की स्थिति
- 5 जिलों में 20 फीसदी ज्यादा बारिश।
- 36 जिलों में सामान्य बारिश।
- 10 जिलों में सामान्य से कम।

सबसे ज्यादा- 29.87 इंच मंडला में

सबसे कम- 9.84 इंच अलीराजपुर में

इन मॉडल्स की स्टडी

1. भारतीय उष्ण कटिबंधीय संस्थान।

2. एमजेओ सूचकांक।
3. आईएमडी ग्लोबल फोरकास्ट सिस्टम।
4. ग्लोबल अर्थ फोरकास्ट सिस्टम।
5. जेनेसिस पोटेंशियल पैरामीटर।

इनसे यह जानकारी मिलती है

- भारतीय उप महाद्वीप में होने वाली बारिश की गतिविधियों के बारे में ट्रेंड

- साइक्लोनिक सर्कुलेशन, लो प्रेशर एरिया यानी कम दबाव का क्षेत्र बनने की प्रवृत्ति कहां- कहां बन रही है।

X
Fast rain from three days till August 20
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..