--Advertisement--

हरतालिका तीज आज / गणेश चतुर्थी कल, अगले 13 दिन तक रहेंगे व्रत-पूजन और त्योहार

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 11:03 AM IST


festival
X
festival

भोपाल। हरतालिका तीज से पूर्णिमा तक 13 दिन लगातार कोई न कोई व्रत, पूजन और त्योहार रहेगा। हरतालिका तीज रवि योग में मनाई जाएगी। गणेश महोत्सव का पूरा पर्व विभिन्न व्रत उपवासों से परिपूर्ण होगा। इस दौरान मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना की जाएगी। साथ ही श्रद्धालु उपवास रखकर दानपुण्य करेंगे। 

 

 

ज्योतिषाचार्य पं. विजयभूषण वेदार्थी के अनुसार हरतालिका तीज बुधवार को मनाई जाएगी। हरितालिका तीज से एक पखवाड़े तक प्रतिदिन व्रत उपवास रहेंगे। हरतालिका तीज पर रवि योग की निष्पत्ति हो रही है, जो फलदायी है। महिलाएं हरतालिका तीज के दिन भगवान शिव-पार्वती की मिट्टी या बालू की मूर्ति बनाकर स्थापित करें। पूजा का मंडप सुंदर वस्त्रों और केले के स्तंभों से सजाएं और पूजन करें। रात्रि में भजन-कीर्तन कर जागरण करें। 13 सितंबर को भी रवि योग अौर गजकेसरी योग में विघ्नहर्ता भगवान गणेश का महोत्सव प्रारंभ होगा। भगवान गणेश जी की स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 11 से दोपहर 1:30 बजे तक रहेगा। इसके उपरांत दोपहर 1:30 से 3 बजे तक राहु काल रहेगा। इस समय गणेश प्रतिमा की स्थापना नहीं करनी चाहिए। 

 

ज्योतिर्विद डॉ. एचसी जैन ने बताया कि महिलाएं हरतालिका तीज का उपवास पति और पुत्र की लंबी उम्र की कामना के लिए रखती हैं। इस दिन व्रत रखने वाली महिलाएं शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना करती हैं। 

 

 

संध्या के समय करें भगवान शंकर-पार्वती का पूजन

 सुबह के समय करें व्रत का पारण 


संध्या के समय फिर से स्नान कर साफ और सुंदर वस्त्र पहनें। इसके बाद गीली मिट्टी से शिव-पार्वती और गणेश की प्रतिमा बनाएं दूध, दही, चीनी, शहद और घी से पंचामृत बनाएं। सुहाग की सामग्री को मां पार्वती और वस्त्र शिवजी को अर्पित करें और हरतालिका की कथा सुनें। रात को जागरण करें। सुबह स्नान करने के बाद माता पार्वती का पूजन करें और उन्हें सिंदूर चढ़ाएं। फिर ककड़ी और हलवे का भोग लगाएं। इसके बाद ककड़ी खाकर व्रत का पारण करें। 


ये रहेंगे त्योहार 


12 सितंबर हरतालिका तीज 
13 सितंबर गणेश चतुर्थी 
14 सितंबर ऋषि पंचमी 
15 सितंबर मौरछट व संतान सप्तमी 
16 सितंबर मुक्ताभरण सप्तमी 
17 सितंबर राधा अष्टमी, विश्वकर्मा पूजा, महालक्ष्मी व्रत 
18 सितंबर चंद्र नवमी 
19 सितंबर मेला रामदेव जी 
20 सितंबर फूल डोल एकादशी 
21 सितंबर भगवान वामन जयंती 
22 सितंबर प्रदोष व्रत 
23 सितंबर अनंत चतुर्दशी 
24 सितंबर पूर्णिमा व्रत एवं पूर्णिमा श्राद्ध।

Astrology

Recommended

Click to listen..