• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • For the world record, 16 lakh saplings were planted in Chhindwara or 6 lakh; Difference in responses of forest departmen

मप्र / वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए छिंदवाड़ा में 16 लाख पौधे रोपे गए या 6 लाख; वन विभाग के जवाबों में अंतर



छिंदवाड़ा में 2017 में हुए पौधरोपण अभियान में गड़बड़ी सामने आ रही है। छिंदवाड़ा में 2017 में हुए पौधरोपण अभियान में गड़बड़ी सामने आ रही है।
X
छिंदवाड़ा में 2017 में हुए पौधरोपण अभियान में गड़बड़ी सामने आ रही है।छिंदवाड़ा में 2017 में हुए पौधरोपण अभियान में गड़बड़ी सामने आ रही है।

  • विधायक सुनील उइके ने बताई गड़बड़, विधानसभा में उठे सवाल पर दिए गए दो जवाब 
  • छिंदवाड़ा में 2 जुलाई 2017 में एक दिन में पौधरोपण को लेकर अलग-अलग संख्या सामने आ रही है 

Dainik Bhaskar

Aug 30, 2019, 12:19 PM IST

भोपाल. मुख्यमंत्री कमलनाथ के छिंदवाड़ा जिले में नमामि देवी नर्मदे योजना में भाजपा सरकार में करोड़ों के पौधे रोपे गए थे, जिनकी संख्या को लेकर वन विभाग सवालों के घेरे में है। पिछली सरकार में छिंदवाड़ा में रोपे गए पौधों की संख्या, खरीदी और जिंदा होने के आंकड़ों में अंतर सामने आया है। विभाग ने विधानसभा में भी अलग-अलग जवाब दिए है।

 

छिंदवाड़ा में 2 जुलाई 2017 को 682195 पौधे रोपने का जवाब दिया गया है तो एक जवाब में 16.69 लाख पौधे रोपना बताया गया है। विभाग का दावा है कि आकड़े एक जैसे है, जबकि विधायक ने रोपण की मैदानी जांच करने की मांग उठाई है। भाजपा सरकार ने 2 जुलाई 2017 को 7 करोड़ पौधे रोपने का दावा किया था, लेकिन विपक्ष में कांग्रेस पौधा रोपण में करोड़ों के भ्रष्टाचार का आरोप लगाती रही है।

 

वन मंत्री ने दिए जांच के आदेश 

अब कमलनाथ सरकार बनने के बाद सच्चाई का पता लगाने जांच कराई जाना है। छिंदवाड़ा में भी एक दिनी पौधारोपण में बड़े भ्रष्टाचार के आरोप लगाए जा रहे है। अब वन मंत्री उमंग सिंघार ने 2 जुलाई के पौधारोपण की मैदानी जांच करवाने का कहा है।

 

एक जैसे सवाल पर दो जवाब
विधायक सुनील उइके ने छिंदवाड़ा में वर्ष 2014 से 2018 के पौधारोपण पर सवाल पूछा था। इसका जवाब वन विभाग ने विधानसभा पुस्तकालय परिशिष्ट में दिया था। ये जवाब फरवरी 2019 के विधानसभा सत्र में दिए गए थे। एक जवाब में 2 जुलाई 2017 को छिंदवाड़ा के पश्चिम वृत्त में 6 लाख 82 हजार 195 पौधे रोपने की जानकारी दी गई थी। इनकी कीमत 1,91,58,000 बताई गई थी। इसमें 5 लाख 99 हजार 158 पौधे जिंदा बताए गए है। पूर्व और दक्षिण वृत्त में कोई पौधा नहीं रोपा गया।


दूसरे जवाब में 2 जुलाई को छिंदवाड़ा जिले में 16.69 लाख पौधारोपण लिखा है। वर्ष 2017 में पूर्व, दक्षिण और पश्चिम सभी वृत्त में करोड़ों के पौधे लगना बताए है। विधायक उइके ने ये सवाल उठाया है कि एक दिन के पौधारोपण में अंतर क्यों है। उइके ने पौधे खरीदी और इनके जिंदा होने की मैदानी जांच कराने की मांग की है।

 

पौधे कागजों में या जिंदा नहीं बचे
छिंदवाड़ा में पौधारोपण की जांच के लिए रिटायर्ड वन संरक्षक रवींद्र सिंह कुशवाह ने पत्र लिखा है। कुशवाह का दावा है कि कागजों में पौधे लगाए गए है। जितने पौधे लगाए गए थे, उनसे में से 10 प्रतिशत भी जिंदा नहीं बचे है। अब गड़बड़ी पकड़े जाने के डर से विभाग अलग-अलग जवाब दे रहा है। इसकी मैदानी जांच होना जरूरी है। 

 

विधानसभा के सवाल पर कुछ नहीं कहूंगा

वन विभाग ने 2 जुलाई को छिंदवाड़ा में नर्मदा कछार वाले पश्चिम वृत्त में पौधे लगाए थे। पूर्व और दक्षिण वृत्त में पौधे नहीं लगे थे। विधानसभा सवाल पर कुछ नहीं कहूंगा।

पुष्कर सिंह, अपर प्रधान मुख्य वन सरंक्षक

 

DB Originals - DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना