--Advertisement--

गणेशोत्सव की तैयारी: गणेश बनेंगे जैव विविधता का आधार, विसर्जन के बाद 'बीज प्रतिमा' से निकलेंगे सिंदूर के पौधे

डीबी सिटी में दो दिवसीय कार्यशाला शुरू, कार्यशालाओं में युवाओं के साथ कॉलेज स्टूडेंट्स में भी दिखा उत्साह

Dainik Bhaskar

Sep 09, 2018, 10:57 AM IST
ganesh utsav, dainikbhaskar abhiyan

  1. संस्थाएं और विक्रेता अपनी जानकारी 9200001174 पर वॉट्सएप करें।
  2. 'बेस्ट ईको फ्रेंडली गणेश पंडाल अवॉर्ड' की एंट्री के लिए 8223022888 पर संपर्क करें।

भोपाल। गणेश उत्सव की तैयारियों के लिए पूरा शहर जुट गया है। पर्यावरण को बचाने के लिए कई संस्थाएं, स्कूल और कॉलेजों में मिट्‌टी की गणेश प्रतिमाओं का निर्माण करना सिखाया जा रहा है। शहर में जैव विविधता को कायम रखने के लिए जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी भी ग्रीन गणेश, सजीव गणेश बनाना सिखा रहे हैं। ट्रेनर सिंदूर के बीजों के माध्यम से लोगों को ग्रीन गणेश तैयार करने की विधि बता रहे हैं।

आज बनाएं अपने गणेश

दैनिक भास्कर द्वारा चलाए जा रहे अभियान को आगे बढ़ाने के लिए हिंदू धार्मिक संगठन भोपाल ने रविवार को नि:शुल्क गणेश प्रतिमा निर्माण शिविर का आयोजन किया है। संगठन के अध्यक्ष संजय वर्मा ने बताया कि न्यू मिनाल रेसीडेंसी स्थित गणेश झूला पार्क में चार बजे से प्रतिमा बनाने के लिए प्रशिक्षण शुरू होगा। शिविर में भाग लेने वालों को प्रतिमा निर्माण की सामग्री नि:शुल्क उपलब्ध कराई जाएगी।

बीज गणेश से पर्यावरण बचाने की पहल

जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी विभिन्न कॉलोनियों में महिलाओं को मिट्टी के गणेश बनाना सिखा रहे हैं। इसमें वे नीम, बरगद, पीपल सहित अन्य प्रजाति के पेड़ों के बीज रख रहे हैं, ताकि ये जलाशयों के किनारे पनप सके। बोर्ड के प्रबंधक बकुल लाड़ ने बताया कि कॉलोनियों, स्कूल और कॉलेज में भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। बोर्ड ने गणेश प्रतिमा के निर्माण के लिए बरगद, पीपल, नीम सहित कई तरह के बीज उपलब्ध कराएं है। उन्हें प्रतिमा के बीच में रखा जा रहा है। उन्होंने बताया कि जब गणेश विसर्जन किया जाए तो एक पौधा तो तैयार हा़े सके। इसलिए ग्रीन गणेश और सजीव गणेश की प्रतिमा का निर्माण करना सीखा रहे हैं। इसके लिए ट्रेनर सुधा दुबे, मीरा सिंह और सुनील दुबे सिंदूर के बीजों के माध्यम से ग्रीन गणेश तैयार करने की विधि सीखा रहे हैं।

डीबी सिटी में सीख रहे गणेश बनाना

डीबी मॉल में दिव्य जीवन संस्था द्वारा शनिवार से दो दिवसीय ईको फ्रेंडली गणेश बनाने के लिए कार्यशाला का आयोजन किया है, जिसमें लोग बड़े उत्साह से भाग ले रहे हैं। संस्था के सदस्य संस्कार सोनी व दिव्या भरथरे ने बताया कि ट्रेनर राकेश सोनी यहां लोगों को सरल विधि से गणेश प्रतिमा बनाना सिखा रहे हैं।

कॉलेज में सजीव गणेश प्रतिमा बनाने में भागीदार बने स्टूडेंट्स

सागर इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड टेक्नाेलॉजी में भी माटी से बीज गणेश और सजीव गणेश प्रतिमा निर्माण के लिए शनिवार को अभियान शुरू हुआ। इसके तहत नर्मदा समग्र स्वयंसेवी संस्था के ट्रेनर्स ने कॉलेज के स्टूडेंट को प्रतिमा बनाना सिखा रहे हैं। इधर, टैगोर नगर फेस -2 बरखेड़ा के विनायक आर्ट के सौरभ विश्वकर्मा ने बताया कि उन्होंने ईको फ्रेंडली गणेश प्रतिमाएं बनाई है।

माटी से बनाए कलात्मक मंगलमूर्ति


एसओएस बालग्राम में ईको फ्रेंडली गणेश बनाने के लिए कार्यशाला हुई। संस्था प्रभारी विपिनदास ने बताया कि बच्चों ने मंगलमूर्ति की कलात्मक बनाई।

एसओएस बालग्राम के बच्चों ने भी बनाए अपने-अपने गणेश। एसओएस बालग्राम के बच्चों ने भी बनाए अपने-अपने गणेश।
डीबी सिटी में आयोजित कार्यशाला में गंजानन को आकार देते प्रतिभागी। डीबी सिटी में आयोजित कार्यशाला में गंजानन को आकार देते प्रतिभागी।
जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण देते हुए। जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण देते हुए।
सागर इंस्टीट्यूट में बीज गणेश बनाती छात्राएं। सागर इंस्टीट्यूट में बीज गणेश बनाती छात्राएं।
X
ganesh utsav, dainikbhaskar abhiyan
एसओएस बालग्राम के बच्चों ने भी बनाए अपने-अपने गणेश।एसओएस बालग्राम के बच्चों ने भी बनाए अपने-अपने गणेश।
डीबी सिटी में आयोजित कार्यशाला में गंजानन को आकार देते प्रतिभागी।डीबी सिटी में आयोजित कार्यशाला में गंजानन को आकार देते प्रतिभागी।
जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण देते हुए।जैव विविधता बोर्ड के कर्मचारी मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण देते हुए।
सागर इंस्टीट्यूट में बीज गणेश बनाती छात्राएं।सागर इंस्टीट्यूट में बीज गणेश बनाती छात्राएं।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..