पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

भोपाल समेत प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश के साथ ओलावृष्टि, मौसम में घुली ठंडक

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अरब सागर में नमी आने की वजह से बदला मौसम, आज भी शाम तक बौछारें पड़ने के अनुमान

भोपाल. राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई हिस्सों में पिछले 24 घंटों में बारिश से मौसम में ठंडक बढ़ गई। कई स्थानों पर ओले गिरने की भी सूचना है।

 

स्थानीय मौसम केंद्र के मुताबिक अरब सागर से नमी आने के चलते प्रदेश के कई हिस्सों में बारिश और ओले पड़ने से मौसम में बदलाव आया है। गुरुवार को भी भोपाल समेत ग्वालियर, चंबल, सागर और होशंगाबाद संभागों में कहीं-कहीं बौछारें पड़ने से मौसम खुशनुमा बना रहेगा।
 
पिछले 72 घंटे से राजधानी में दिन और रात का तापमान लगातार बढ़ रहा था, पर बुधवार रात को कटारा हिल्स, साकेत नगर, अवधपुरी समेत कई इलाकों में बारिश होने से मौसम बदल गया। वहीं, ग्वालियर के 20, सतना के 4 गांवों में ओले गिरने और गुना, भिंड में बारिश होने से हवा में ठंडक घुल गई। देर रात बिजली की चमक के साथ तेज छींटे भी पड़े।

 

हालांकि गुरुवार को सुबह से भोपाल में धूप खिली हुई है। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी जीडी मिश्रा बताया कि आज भी देर शाम तक हल्की बौछारें पड़ सकती हैं। 

 

भिंड में बारिश और ओलावृष्टि 
भिंड जिले के गोहद, मेहगांव व ऊमरी क्षेत्र में कुछ स्थानों पर ओले गिरे हैं तथा कई जगहों पर बारिश हुई। जिन जगहों पर जमकर ओलावृष्टि हुई है, वहां फसलों के नुकसान होने की स्थिति बन गई है। इसी बीच अटेर क्षेत्र के ग्राम बजरिया में मुन्नीलाल बौहरे नाम का किसान खेतों पर काम करने के दौरान बिजली गिरने से गंभीर रूप से घायल हो गया। किसान को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

 

\"barish\"

 

शिवपुरी में सुबह तक रुक-रुककर बारिश 
शिवपुरी में भी कल देर शाम से आज सुबह तक रुक-रुक कर बारिश हुई। कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में चने के आकार के ओले गिरने की भी जानकारी सामने आई है। नीमच, रतलाम और मंदसौर जिलों में भी पिछले 24 घंटे में कई स्थानों पर रुक-रुक कर छींटे पड़े हैं। 
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें