• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Heat politics on the transfer of dogs; BJP said Hi Ray Bardardi government gave up dogs

मप्र / कुत्तों के ट्रांसफर पर गर्माई सियासत; भाजपा बोली- हाय रे बेदर्दी सरकार... इनको तो बख्श देते



प्रदेश सरकार ने 46 डॉग हैंडलर का ट्रांसफर किया है। प्रदेश सरकार ने 46 डॉग हैंडलर का ट्रांसफर किया है।
X
प्रदेश सरकार ने 46 डॉग हैंडलर का ट्रांसफर किया है।प्रदेश सरकार ने 46 डॉग हैंडलर का ट्रांसफर किया है।

  • शुक्रवार को 23वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बल में 46 डॉग हैंडलर के ट्रांसफर किए हैं
  • डॉग हैंडलर्स को उनके खोजी कुत्तों के साथ ही ट्रांसफर किया गया

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 03:29 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में इन दिनों तबादलों के दौर के बीच पुलिस विभाग के डॉग हैंडलर्स के खोजी कुत्तों के ट्रांसफर का आदेश जारी होने के बाद से राजनीति फिर से गर्मा गई है। भाजपा ने कांग्रेस सरकार की ट्रांसफर नीति पर तंज कसा है।

 

ये भी पढ़ें

Yeh bhi padhein

 

शुक्रवार को 23वीं वाहिनी विशेष सशस्त्र बल में 46 डॉग हैंडलर के ट्रांसफर के आदेश जारी हुए हैं। इन डॉग हैंडलर्स को उनके खोजी कुत्तों के साथ ही ट्रांसफर किया गया है। इससे 46 खोजी कुत्ते प्रभावित हुए हैं। इनमें स्निफर, नार्को और ट्रेकर कुत्ते शामिल हैं। इसमें डफी समेत चार कुत्तों का ट्रांसफर मुख्यमंत्री हाउस किया गया है। सीएम हाउस की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब इन्हीं कुत्तों की होगी। 

 

कुत्तों को भी नहीं छोड़ा

इस आदेश के बाद भारतीय जनता पार्टी उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा ने अपने ट्वीट के माध्यम से कांग्रेस सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा - हाय रे बेदर्दी कांग्रेस सरकार कुत्तों को तो छोड़ देते। पुलिस विभाग ने किए कुत्तों के थोकबंद तबादले। 

 

ट्रांसफर पर सवाल उठाना मानसिक संकीर्णता

कुत्तों के ट्रांसफर पर सवाल उठाए जाने पर वित्त मंत्री तरुण भनोत ने कहा है कि कुत्तों के ट्रांसफर पर सवाल उठाना मानसिक संकीर्णता है। सभी तबादले प्रशासनिक व्यवस्था के तहत किए गए हैं। 

 

भाजपा ने कहा- कांग्रेस बराबर का व्यवहार करती है

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने इसके बहाने कांग्रेस सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि ये कमलनाथ सरकार का समानता का व्यवहार है। सरकार ने अपनी ट्रांसफर नीति में कोई भेदभाव नहीं किया। राज्य सरकार के गठन के साथ ही प्रदेश में तबादलों का दौर लगातार जारी है। विपक्ष इस मुद्दे को लेकर सरकार को विधानसभा में भी लगातार घेरने की कोशिश कर रहा है।

COMMENT