भोपाल / जूनियर डॉक्टरों ने दो मरीजों के परिजनाें को पीटा, बिना इलाज अस्पताल से किया बाहर



कोहेफिजा थाने में शिकायत करने पहुंचे मरीज के परिजन। कोहेफिजा थाने में शिकायत करने पहुंचे मरीज के परिजन।
X
कोहेफिजा थाने में शिकायत करने पहुंचे मरीज के परिजन।कोहेफिजा थाने में शिकायत करने पहुंचे मरीज के परिजन।

  • मरीज का जल्द इलाज करने का आग्रह करने पर बदसलूकी
  • पीड़ित का दावा- अस्पताल के सीसीटीवी कैमरे में कैद है पूरा घटनाक्रम

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 02:55 AM IST

भाेपाल. हमीदिया अस्पताल में बुधवार को  जूनियर डाॅक्टरों ने दो मरीजों के परिजनों के साथ मारपीट की। मारपीट के दौरान एक मरीज के परिजन का सिर भी फाेड़ डाला। जबकि दूसरे मरीज के परिजनों को ड्यूटी रूम में बंद करके पीटा गया। दोेनों ही मामलों में मरीजों को बिना इलाज अस्पताल से वापस जाना पड़ा। एक मामले में पुलिस ने केस दर्ज किया है। जबकि दूसरे में आवेदन लेकर जांच की जा रही है।  परिजनाें का दाेष सिर्फ इतना था कि उन्हाेंने दर्द से कराह रहे मरीज का जल्द इलाज शुरू करने का अाग्रह किया था। घटना मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात करीब 11 बजे की है। पीड़ित परिवार ने मामले की शिकायत काेहेफिजा थाना में की है।

 

जेपी नगर निवासी शफीक हसन के शाहजहांनाबाद निवासी 65 वर्षीय ससुर कफील अहमद मंगलवार शाम करीब 6 बजे छत से गिर गए थे। उनकी कमर की हड्डी टूट गई। परिजन उन्हें इलाज के लिए हमीदिया अस्पताल लेकर पहुंचे थे। शफीक ने बताया कि अाेपीडी में मरीज काे करीब रात अाठ बजे तक स्ट्रेचर पर ही लिटाकर रखा गया था। मरीज दर्द से कराह रहा था। शफीक ने जब ड्यूटी पर तैनात डाॅ. अमन काे जल्द इलाज शुरू करने काे कहा ताे वे भड़क गए। उन्हाेंने दुत्कारते हुए दूर जाकर खड़े हाेने का कहा। शफीक दूर जाकर खड़े हाे गए। तभी वे तीन अन्य डाॅक्टराें के साथ मिलकर शफीक काे ड्यूटी रूम में खींचकर ले गए। यहां उन्होंने उनके साथ मारपीट की। इस दाैरान शफीक की पत्नी अाैर बहन ने बीच-बचाव करने का प्रयास किया ताे उनके साथ भी धक्कामुक्की की।

 

डॉक्टर आएंगे तब इंजेक्शन लगाएंगे :
विदिशा निवासी राजकमल बघेल के भतीजे ने बुधवार काे जहर खा लिया था। परिजन गंभीर हालत में उसे हमीदिया अस् पाल लेकर पहुंचे थे। यहां डाॅक्टराें ने इलाज के नाम पर उसे बाेतल लगा रखी थी। जब बघेल ने वार्ड ब्वाॅय से पूछा कि पर्चे में लिखे इंजेक्शन क्याें नहीं लगा रहे हैं। इस पर वार्ड ब्वाॅय ने जबाव दिया कि चुपचाप बैठे जब डाॅक्टर अाएंगे तभी इंजेक्शन लगेगा। तभी वहां एक जूनियर डाॅक्टर अाया उसने कहा कि ज्यादा जल्दी है ताे कहीं अाैर ले जाअाे। इस पर बघेल ने मरीज के हाथ से बाेतल निकाली अाैर बाहर अा गए। वे ब्लड बैंक के पास एंबुलेंस का इंतजार कर रहे थे तभी तीन-चार जूडा ने अाकर बेल्ट से मारपीट शुरू कर दी। इस दाैरान बघेल काे सिर में बेल्ट लगने से खून बहने लगा। काेहेफिजा पुलिस ने प्रकरण दर्ज किया है।
 

शफीक का दावा है कि पूरा घटनाक्रम अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हैं। मैंने न ताे किसी डाॅक्टर से बदसलूकी की अाैर न एेसा व्यवहार ही किया कि जिसके लिए मारपीट की जाए। अगर पुलिस अाैर अस्पताल प्रबंधन घटना के सीसीटीवी फुटेज देख लें ताे साफ हाे जाएगा कि किस तरह अस्पताल में डाॅक्टर मरीजों से अमानवीय व्यवहार करते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना