--Advertisement--

आजाद मीडिया और लोकतंत्र विषय पर व्याख्यान

समय के साथ बदल जाता है हर मॉडल का स्वरूप गांधी भवन में हुए व्याख्यान में अपनी बात रखते अतिथि। सिटी रिपोर्टर |...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:25 AM IST
आजाद मीडिया और लोकतंत्र विषय पर व्याख्यान
समय के साथ बदल जाता है हर मॉडल का स्वरूप

गांधी भवन में हुए व्याख्यान में अपनी बात रखते अतिथि।

सिटी रिपोर्टर | भोपाल

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आजाद मीडिया और लोकतंत्र विषय पर व्याख्यान का आयोजन हुआ। गांधी भवन में हुए व्याख्यान में मुख्य वक्ता के तौर पर प्रोफेसर अरुण त्रिपाठी शामिल हुए। अध्यक्षता पलाश सुरजन ने व विषय प्रवेश राकेश दीक्षित ने किया।

इस अवसर पर अरुण त्रिपाठी ने कहा, कोई भी मॉडल लंबे समय तक वैसा ही नहीं रखा जा सकता, जिस स्वरूप में वह लाया गया हो। समय के साथ मॉडल के स्वरूप में बदलाव करने की जरूरत पड़ती है। गांधी जी भी पहले ईश्वर को सत्य मानते थे, लेकिन बाद में उन्होंने सत्य को ही ईश्वर माना। इसीलिए, उन्होंने सत्याग्रह को चुना और देशभर में इसी को अपने टूल के रूप में इस्तेमाल किया। प्रार्थना सभाओं के माध्यम से उन्होंने साम्प्रदायिक एकता को देशभर में फैलाया। मैत्री भाव तेजी से खत्म हो रहा है। जब तक व्यक्तिगत स्वतंत्रता को समुदाय की स्वतंत्रता के सामने नगण्य मानते रहेंगे, तब तक यह लोकतंत्र लड़खड़ाता रहेगा।

X
आजाद मीडिया और लोकतंत्र विषय पर व्याख्यान
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..