Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» FIFA WORLD CUP 2018 की ताज़ा ख़बर: Information, News And Updates

दुनिया में 27 करोड़ लोग खेलते हैं फुटबॉल, उसके सबसे बड़े टूर्नामेंट को 350 करोड़ लोग देख सकते हैं

2018 वर्ल्ड कप के कारण 2018 में फीफा की कमाई 13,410 करोड़ रुपए होने की उम्मीद की जा रही है।

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 05, 2018, 02:50 PM IST

  • दुनिया में 27 करोड़ लोग खेलते हैं फुटबॉल, उसके सबसे बड़े टूर्नामेंट को 350 करोड़ लोग देख सकते हैं
    +1और स्लाइड देखें
    फुटबॉल वर्ल्ड कप की लोकप्रियता को टक्कर न मिले इसलिए फीफा ओलिंपिक में अंडर-23 टूर्नामेंट करवाता है। एक टीम में सिर्फ 4 खिलाड़ी ही इससे अधिक उम्र के होते हैं। - फाइल
    • दुनिया में 27 करोड़ से ज्यादा लोग फुटबॉल खेलते हैं
    • दुनिया के 211 देश फीफा के सदस्य, यूएन से 18 ज्यादा

    खेल डेस्क.फुटबॉल को वैश्विक स्तर पर संचालित करने वाली संस्था फीफा का मुख्यालय ज्यूरिख में है। यह दुनिया की सबसे बड़ी और ताकतवर खेल संस्था हैं। 211 देश इसके सदस्य हैं। फीफा के सदस्यों की संख्या संयुक्त राष्ट्र (193) के सदस्यों से 18 ज्यादा है। फीफा के मुताबिक, इससे 50 करोड़ लोग बतौर खिलाड़ी, अधिकारी, क्लब मालिक-सदस्य, तकनीकी स्टाफ के तौर पर जुड़े हैं। किसी भी स्पोर्ट्स संस्था के पास इतनी स्ट्रेंथ नहीं है।

    350 करोड़ से ज्यादा लोग देखेंगे फीफा वर्ल्ड कप
    - फुटबॉल वर्ल्ड कप दुनिया का सबसे लोकप्रिय सिंगल स्पोर्ट्स इवेंट है। इसकी वजह इस खेल की सरलता है। इस कारण लोग इसे आसानी से खेल और समझ सकते हैं। अनुमान है कि रूस में होने वाले 21वें वर्ल्डकप को 350 करोड़ से ज्यादा लोग देखेंगे।

    सबसे अधिक कमाई वर्ल्ड कप के समय

    - 2017 में फीफा का रेवेन्यू 4910 करोड़ रुपए था। 2018 में इसके 13,410 करोड़ रुपए के आंकड़े को पार करने की उम्मीद है। इसकी खास वजह यह है कि वर्ल्ड कप के साल इसकी कमाई दो-तीन गुना बढ़ती है। 2014 में रेवेन्यू 14,000 करोड़ था, जबकि अगले साल 2015 में इसकी कमाई 3,650 करोड़ रुपए ही हुई थी।

    155 साल से एक ही नियम इसलिए ज्यादा लोकप्रिय
    - सबसे आसान नियमःगेंद को बिना हाथ लगाए प्रतिद्वंद्वी गोल पोस्ट में डालना फुटबॉल का सबसे बड़ा नियम है। इसी सरलता के कारण यह खेल सबको आकर्षित करता है।
    - नियमों में बदलाव नहींः1863 में मॉडर्न फुटबॉल के नियम बने थे। तब से अब तक 155 साल बीत गए, लेकिन इन नियमों में कोई बड़ा बदलाव नहीं किया गया।

    - कोई ऑफ सीजन नहींःअधिकांश खेलों में ऑफ सीजन होता है। लेकिन फुटबॉल में ऐसा नहीं होता है। यह जनवरी से लेकर दिसंबर तक, हर महीने में खेला जाता है।
    - 90 मिनट का गेमःब्रेन 90 से 120 मिनट तक फोकस कर पाता है। इसके बाद ब्रेक चाहिए। इसे अल्ट्राडियन रिदम कहते हैं। फुटबॉल इसी टाइम फ्रेम का गेम है।

    - सस्ता और सहजःइसे खेलने के लिए महज एक गेंद की जरूरत है। ज्यादा इक्विपमेंट की दरकार नहीं। भारतीय टीम बिना जूते के ओलिंपिक सेमीफाइनल तक पहुंची है।
    - बॉडी साइज से फर्क नहींःफुटबॉल गिने-चुने खेलों में है, जिसमें शारीरिक आकार मायने नहीं रखता। हर नस्ल के लोगों के लिए इसमें एक समान अवसर होता है।
    - सबसे ज्यादा फैन:27 करोड़ लोग अगर फुटबॉल खेलते हैं तो फैन की संख्या तीन अरब है। किसी भी अन्य खेल के फैन से ज्यादा।

    - 500 से ज्यादा लीग:दुनिया भर के 500 से ज्यादा क्लब लेवल की लीग फीफा से रजिस्टर हैं। अन्य स्पोर्ट्स ऑर्गेनाइजेशन इसके आसपास भी नहीं है।
    - आईओसी को टक्कर:टोक्यो में होने वाले 2020 ओलिंपिक खेल में 33 खेल शामिल हैं। इसे करीब 3.8 अरब लोग देखेंगे। वहीं, 2018 फीफा वर्ल्ड कप को करीब 3.5 अरब लोग देखेंगे।

    फीफा का वर्ल्ड स्ट्रक्चरःसबसे अधिक सदस्य 56 देश, अफ्रीकन फुटबॉल एसोसिएशन के
    - 41 देशः कनफेडरेशन ऑफ नॉर्थ, सेंट्रल अमेरिका एंड कैरेबियन एसोसिएशन फुटबॉल (CONCACAF)
    - 10 देशः कनफेडरेशन सुदामेरिकाना डी फुटबॉल (CONMEBO)
    - 56 देशः कनफेडरेशन ऑफ अफ्रीकन फुटबॉल (CAF)
    - 47 देशः एशियन फुटबॉल कनफेडरेशन (AFC)
    - 45 देशः यूनियन ऑफ यूरोपियन फुटबॉल एसोसिएशन (UEFA)
    - 11 देशः ओसियाना फुटबॉल कनफेडरेशन (OFC)

    स्टेडियम में किसी मैच को देखने का रिकॉर्ड भी फुटबॉल के ही नाम
    1950 फीफा वर्ल्ड कप में ब्राजील-उरुग्वे के बीच हुए मैच को देखने के लिए 1 लाख 99 हजार 854 लोग स्टेडियम पहुंचे। यह आंकड़ा अब तक किसी खेल को स्टेडियम में देखने के लिहाज से सबसे अधिक है।


  • दुनिया में 27 करोड़ लोग खेलते हैं फुटबॉल, उसके सबसे बड़े टूर्नामेंट को 350 करोड़ लोग देख सकते हैं
    +1और स्लाइड देखें
    1950 के फीफा वर्ल्ड कप में ब्राजील-उरुग्वे के बीच हुए मैच को देखने के लिए स्टेडियम में 1 लाख 99 हजार 854 दर्शक पहुंचे थे। - फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×