• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • नालों में समाई सड़कें, जनता परेशान... इधर, मेयर और पीडब्ल्यूडी अफसर एक-दूसरे पर डालते रहे जिम्मेदारी
--Advertisement--

नालों में समाई सड़कें, जनता परेशान... इधर, मेयर और पीडब्ल्यूडी अफसर एक-दूसरे पर डालते रहे जिम्मेदारी

इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | भोपाल गुरुवार तड़के 4 बजे से सुबह करीब 9 बजे तक तेज बारिश का दौर चला। इस दौरान शहर के कई...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 04:15 AM IST
इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | भोपाल

गुरुवार तड़के 4 बजे से सुबह करीब 9 बजे तक तेज बारिश का दौर चला। इस दौरान शहर के कई इलाकों में नालों का पानी सड़कों पर जमा हो गया। जनता परेशान होती रही। वजह, सिर्फ एक, मानसून के पहले न तो ठीक से नालों की सफाई की और न ही अतिक्रमण हटाया। अब जब सड़कों से लेकर घरों तक नालों का पानी भर गया तो महापौर आलोक शर्मा जलमग्न सैफिया कॉलेज रोड पर कुर्सी लगा कर बैठ गए। उनका कहना था कि यहां पानी भरने के लिए नगर निगम नहीं, पीडब्ल्यूडी जिम्मेदार है। वहीं पीडब्ल्यूडी के अफसरों की दलील थी कि नालों की सफाई और अतिक्रमण हटाने का काम नगर निगम का है। महापौर ने संभागायुक्त कवींद्र कियावत और कलेक्टर सुदाम खाडे से फोन पर चर्चा की। दोनों अफसर पहुंचे और महापौर उनके साथ संभागायुक्त कार्यालय चले गए। इस बीच महापौर की नाराजगी की जानकारी मिलने पर पहुंचे पीडब्ल्यूडी और नगर निगम अमले ने छह स्थानों पर चैंबर साफ किए और पानी निकल गया।

दिनभर में 75 शिकायतें

नगर निगम के कंट्रोल रूम(0755-2542222) पर दिनभर में 75 शिकायतें दर्ज हुई। इनमें 15 पेड़ गिरने की, 55 घरों में जलभराव और 5 सीवेज से संबंधित थीं।

हकीकत...सैफिया कॉलेज रोड के 6 चैंबर साफ किए तो निकल गया पूरा पानी

महापौर जी, अतिक्रमण और नाले पहले साफ हो जाते तो यह तस्वीर बनती ही नहीं...

सैफिया कॉलेज रोड पर नाले का पानी जमा हुआ तो महापौर वहीं कुर्सी जमाकर अफसरों को फोन लगाते रहे।

क्या मंत्री की भी नहीं सुनेंगे पीडब्ल्यूडी के अफसर


जानबूझकर नहीं कराई नालों की सफाई, ताकि नेतागीरी का मौका मिले





नालों की सफाई पीडब्ल्यूडी का काम नहीं

...और इधर, अपर आयुक्त एमपी सिंह नाली में गिर पड़े।

कहां-क्या परेशानी