--Advertisement--

जवाहर बाग: 1980 में थे 8 हजार पेड़, बचे हैं सिर्फ 450

गोविंदपुरा के जवाहर बाग में 38 साल पहले भेल के उद्यानिकी विभाग ने आम के 10 हजार पौधे लगाए थे। इनमें से 8 हजार पौधे पेड़...

Dainik Bhaskar

May 17, 2018, 04:20 AM IST
जवाहर बाग: 1980 में थे 8 हजार पेड़, बचे हैं सिर्फ 450
गोविंदपुरा के जवाहर बाग में 38 साल पहले भेल के उद्यानिकी विभाग ने आम के 10 हजार पौधे लगाए थे। इनमें से 8 हजार पौधे पेड़ बनकर फल देने लगे थे। 100 एकड़ में फैले आम के इस बड़े बाग में देखरेख के अभाव में अब सिर्फ 450 पेड़ ही बचे हैं। हालात यह हैं कि हर साल 200 से ज्यादा पेड़ नष्ट हो रहे हैं। यही हालत रही तो अगले दो साल में यह बाग पूरी तरह खत्म हो जाएगा। उद्यान विशेषज्ञों के अनुसार आम के मौसम में ठेका देकर भेल प्रशासन अपनी जिम्मेदारी पूरी कर लेता है। बारिश के पहले जमीन को खोदकर पेड़ों के आसपास गुड़ाई की जानी चाहिए, वह भी नहीं हो रही है।

नई वैरायटी का प्रयास

भेल के उद्यान विशेषज्ञ के अनुसार जवाहर आम बाग में दशहरी, तोतापरी, लंगड़ा और नीलम आम के पौधों को आपस में क्रास कराकर नई वैरायटी बनाने का प्रयास किया गया। इसमें पहलीबार में ही सफलता मिल गई। उस दौरान भेल टाउनशिप में 22 हजार कर्मचारी कारखाने में काम करते थे।


X
जवाहर बाग: 1980 में थे 8 हजार पेड़, बचे हैं सिर्फ 450
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..