Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» एक माह में मनेंगे सालभर के प्रमुख पर्व

एक माह में मनेंगे सालभर के प्रमुख पर्व

भोपाल|ज्येष्ठ अधिकमास का बुधवार को पहला दिन था। इसे पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं। समापन 13 जून को होगा। इस मास के...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 17, 2018, 04:20 AM IST

एक माह में मनेंगे सालभर के प्रमुख पर्व
भोपाल|ज्येष्ठ अधिकमास का बुधवार को पहला दिन था। इसे पुरुषोत्तम मास भी कहते हैं। समापन 13 जून को होगा। इस मास के प्रारंभ होने के साथ ही पुष्टि वैष्णव संप्रदाय में प्रभु श्रीनाथ जी की पूजा के विशेष कुंडवारा उत्सव का लखेरापुरा स्थित संप्रदाय के मंदिर में शुभारंभ हुआ। उत्सव की विशेषता यह रहेगी कि इस एक माह में ही पूरे वर्ष के प्रमुख पर्व मनाए जाएंगे।

लखेरापुरा में भगवान का विशेष शृंगार कर लगाया विशेष भोग

लखेरापुरा मंदिर में श्रीनाथजी को सुसज्जित फूल बंगले में विराजमान कर उनका विशेष शृंगार किया गया। विधिवत पूजा के बाद विविध प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया गया। समिति के श्रीकांत शर्मा ने बताया कि 20 मई को श्रीनाथजी की जन्माष्टमी तिलक, 21 को गोचारण, गो पूजा, 25 को यमुनाजी का चुनरी उत्सव, 27 को नौका विहार व मनोरथ, 30 को गिरिराज पूजन व परिक्रमा, 31 को छाक पूजन, 4 जून को नंद महोत्सव, 7 को फूल-गुलाब होली, 11 को धनतेरस, चांदी का बंगला, 12 को दीपोत्सव, 13 को अन्नकूट और 14 को श्रीनाथ महाआरती उत्सव मनाया जाएगा।

विवाह बंद, मुहूर्त अब 14 जून से

पंडितों के अनुसार अधिकमास के दौरान विवाह मुहूर्त नहीं रहेंगे, किंतु अन्य धार्मिक अनुष्ठान, कथा व प्रवचन आदि कार्यक्रम होंगे। उद् घाटन, शिलान्यास, गृह प्रवेश आदि मांगलिक कार्य भी नहीं किए जा सकेंगे। दोबारा विवाह मुहूर्त की शुरुआत 14 जून से होगी, जो 16 जुलाई तक रहेंगे। इसके बाद सीधे 8 दिसंबर से मुहूर्त शुरू होंगे। सर्वाधिक मुहूर्त 10 दिन जून में और सबसे कम दिसंबर में सिर्फ 4 दिन रहेंगे। इस दौरान अगस्त से नवंबर तक चार महीने की अवधि में एक भी दिन विवाह मुहूर्त नहीं रहेंगे। कुल मिलाकर दिसंबर तक अब केवल 22 दिन ही विवाह की शहनाइयां बजेंगी। पं. प्रहलाद पंड्या ने बताया कि ज्येष्ठ अधिकमास के कारण विवाह व अन्य मंगल कार्य थम जाएंगे। इसके बाद 14 जून से 16 जुलाई तक विवाह होंगे। आगामी 21 जुलाई को भड़ली नवमी पर मुहूर्त नहीं है, पर इस दिन की शुभता के कारण संभव है, आवश्यक होने पर कुछ लोग विवाह कर लें। ऐसी ही स्थिति 19 नवंबर को देवउठनी ग्यारस पर रहेगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×