Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» असनानी समूह व सहयोगियों के 6 राज्यों में 30 ठिकानों पर छापे

असनानी समूह व सहयोगियों के 6 राज्यों में 30 ठिकानों पर छापे

विशेष संवाददाता . भोपाल | आयकर विभाग ने बुधवार को राजधानी के बिल्डर समूह असनानी और उनके सहयोगी कारोबारियों के 6...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 17, 2018, 04:25 AM IST

विशेष संवाददाता . भोपाल | आयकर विभाग ने बुधवार को राजधानी के बिल्डर समूह असनानी और उनके सहयोगी कारोबारियों के 6 राज्यों में फैले 30 से ज्यादा ठिकानों पर छापे मारे। छापे का केंद्र भोपाल ही रहा। प्रारंभिक जांच में ही विभाग को 50 करोड़ रुपए से ज्यादा की काली कमाई सामने आने का अनुमान है। शेष | पेज 14 पर



विभाग को आशंका थी कि विसनप्रसाद असनानी और उनके सहयोगी रियल एस्टेट में करोड़ों रुपए की कमाई कर रहे हैं। लेकिन वे आय बेहद घटाकर बता रहे हैं। इस आशंका के बाद आयकर विभाग की एक 300 सदस्यीय टीम ने बुधवार तड़के यह कार्रवाई प्रारंभ की। विभाग सभी पहलुओं पर सघन जांच कर रहा है। इंदौर स्थित मशहूर हुंडी कारोबारी शरद दरक भी जांच के दायरे में है। दरक का नाम पहले भी कई आर्थिक अनियमितताओं में आया है। आंशका जताई जा रही है कि असनानी ने दरक के नेटवर्क का फायदा उठाकर पूरे देश में हवाला के माध्यम से पैसा एक जगह से दूसरी जगह पर पूछा। असनानी शहर के मशहूर आशिमा माल का संचालन करते हैं। विभाग यहां पिछले छह साल के रिकार्ड खंगाल रहा है।

ये छापे की जद में

विसनप्रसाद असनानी: असनानी ग्रुप के प्रमुख। फ्लेगशिप कंपनी श्री गोविंद रियलिटी के मालिक।

ओमप्रकाश कृपलानी: विसनप्रसाद के सहयोगी। रियलिटी फर्म चलाते हैं।

मनोज बूलचंदानी और संजय बूलचंदानी: असनानी ग्रुप के सहयोगी। अलग रियलिटी फर्म चलाते हैं।

शरद दरक: ग्रुप से जड़े। इंदौर निवासी। हुंडी कारोबारी। इनकी आर्थिक गतिविधियां पहले भी चर्चा का केंद्र बनी।

जयंत और राजेंद्र भंडारी: यह दोनों भी रियल एस्टेट कारोबार से जुड़े।



सभी रसूखदार अरेरा कॉलोनी निवासी

विसनदास असनानी अरेरा कॉलोनी में ई-2 132 में रहते हैं। ओमप्रकाश कृपलानी का ई-7 659 में आवास है। जयंत और राजेंद्र भंडारी ई-5, 193 के निवासी है। मनोज और संजय बूलचंदानी ए-115, शाहपुरा में रहते हैं। प्रीतपाल सिंह बिंद्रा का आवास ई-1 165 में है।

आसराम कनेक्शन पर नो कमेंट

असनानी के सहयोगी ओमप्रकाश कृपलानी कुख्यात संत आसाराम के नाम से कई संस्थाओं का संचालन करते हैं। इसलिए कहा जा रहा था कि उनका नाबालिग से बलात्कार के जुर्म में सजा काट रहे आसराम से संबंध है। लेकिन आयकर विभाग के अधिकारियों ने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। उनका कहना था कि यह सर्च केवल रियल एस्टेट फर्मों की आय कमतर बताए जाने से जुड़ी है।

कहां-कहां पड़े छापे

30 से ज्यादा ठिकाने। ज्यादातर भोपाल में। शरद दरक के दो ठिकाने इंदौर के भोज नगर में। बेंगलूरू में कोरा मंगला में स्कूल ऑफ क्रिएटिविटी समेत दो स्थान। इसके साथ पश्चिम बंगाल,गुजरात और महाराष्ट्र में कुछ जगह वेरिफिकेशन सर्वे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×