--Advertisement--

नदियां जीवनदायिनी हैं, इन्हें बचाने की जिम्मेदारी हमारी

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:00 AM IST

News - जन अभियान परिषद द्वारा जल संसद का आयोजन जनपद सभाा कक्ष में आयोजित किया। कार्यक्रम में जल सरंक्षण के साथ ही नदियों...

नदियां जीवनदायिनी हैं, इन्हें बचाने की जिम्मेदारी हमारी
जन अभियान परिषद द्वारा जल संसद का आयोजन जनपद सभाा कक्ष में आयोजित किया। कार्यक्रम में जल सरंक्षण के साथ ही नदियों को प्रदूषण से बचाने के लिए सभी को प्रयास करने की बात सभ वक्ताओं ने कही। भाऊखेड़ी-कांकड़खेड़ा क्षेत्र से निकली इस मौके पर उतावली नदी पर श्रमदान किया गया।

सोमवार को जनपद सभा कक्ष में जन अभियान परिषद द्वारा जल संसद 2018 का आयोजन किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का लाइव प्रसारण भी दिया गया। जल संसद में बोलते हुए पूर्व मंत्री करण सिंह वर्मा ने कहा कि हमारे देश में नदियों को विशेष महत्व है। नदियों को मां कहकर पुकारा जाता है। गंगा हो नर्मदा या कोई और नदी इसमें स्नान करने से ही शरीर के पाप धुल जाते हैं। वक्त के साथ ही नदियों में प्रदूषण बड़ा है और नदियों के जल भराव क्षेत्र में भी कमी आई है। यही कारण है जो प्रदेश सरकार जहां नदियों के संरक्षण उनकी सफाई पर ध्यान दे रही है। इसके साथ ही वर्षा के जल को संरक्षित करना भी जरूरी है। पानी की एक-एक बूंद को व्यर्थ बहने से बचना होगा, इसके लिए सब को मिलकर प्रयास करना होगा। जल संसद को एसडीएम आरएस राजपूत, ओपी वर्मा, कमल वर्मा, मुकेश प्रगट, मोहन लाल तिवारी आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम से पहले अतिथियों ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर शुभारंभ किया। जन अभियान परिषद की ब्लाक समन्वयक बीलू भिलवारे नेजल संसद कार्यक्रम पर विस्तार से प्रकाश डाला। कार्यक्रम का संचालन राजपाल परमार ने किया और आभार शक्ति राठी ने माना। कार्यक्रम में बलवान सिंह मरदानिया, भविष्य वर्मा, विष्णु सेन, संतोष परमार, बजरंग नागर, मथुरा प्रसाद परमार, ज्योति मीणा, चंद्रकला मीणा, माया सेन आदि उपस्थित थी। उतावली नदी पर किया श्रमदान: इस मौके पर जन अभियान परिषद द्वारा गोद ली गई नदी उतावली नदी पर श्रमदान किया गया। बड़ी संख्या में जन अभियान परिषद के कार्यकर्ता कांकड़खेड़ा स्थित उतावली नदी के उद्गम स्थल पर पहुंचे और नदी में जमी गाद व मिट्टी निकाली। वहीं नदी को प्रदूषण से बचाने के लिए नदी व जल स्रोतों की सफाई करने व जल अपव्यय रोकने की सभी को शपथ दिलाई।

जल संसद

जनपद सभा कक्ष में जन अभियान परिषद द्वारा जल संसद 2018 का आयोजन किया

मप्र जन अभियान परिषद के साथ लोगों ने उतावली नदी की सफाई की।

X
नदियां जीवनदायिनी हैं, इन्हें बचाने की जिम्मेदारी हमारी
Astrology

Recommended

Click to listen..