--Advertisement--

पीएम आवास में हो रहा जमकर भ्रष्टाचार

पीएम आवास में हो रहा जमकर भ्रष्टाचार भास्कर संवाददाता | इछावर पीएम आवास का लक्ष्य पूरा करने के चक्कर में कई...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:35 AM IST
पीएम आवास में हो रहा जमकर भ्रष्टाचार

भास्कर संवाददाता | इछावर

पीएम आवास का लक्ष्य पूरा करने के चक्कर में कई तरह की अनियमितताएं बरती जा रही हैं। पूर्व में पीएम आवास में अनियमितताओं को लेकर जनपद सीईओ सहित कई कर्मचारी निलंबित हो चुके हैं। इसके बाद भी अपात्रों को पीएम आवास का आवंटन किया गया है और पात्र आवास के लिए चक्कर लगा रहे हैं। ब्रिजीसनगर में तो एक तीन मंजिला मकान के मालिक को उसकी प|ी के नाम पर ही पीएम आवास दे दिया गया। शिकायत पर जब इस मामले की एसडीएम ने जांच की तो पाया कि दो पक्के मकान और जमीन होने के बाद भी प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत किया गया है।

जनपद पंचायत के ग्राम ब्रिजीसनगर निवासी धर्मेंद्र मेवाड़ा ने 17 अप्रैल को जन सुनवाई में कलेक्टर तरुण कुमार पिथोड़े को भी इस संबंध में आवेदन देकर जांच की मांग की थी शिकायती आवेदन में धर्मेंद्र मेवाड़ा ने आरोप लगाया था कि ग्राम पंचायत द्वारा पीएम आवास अपात्रों को दे दी हैं। जिनका तीन मंजिला पक्का मकान है उन्हें भी प|ी के नाम से पीएम आवास दे दी है जो उनके खेत पर बन रही है। इनके पास 10 एकड़ कृषि भूमि है और उनके तीन पुत्र शासकीय सर्विस में हैं। एक पुत्र तो ब्रिजीसनगर में बैंक आफ महाराष्ट्र में कैशियर के पद पर पदस्थ है। वहीं ग्राम पंचायत द्वारा गांव में कई अपात्रों को पीएम आवास दी गई हैं। इनमें महेश राठौर, सूरज मल राठौर जिनके गांव में पक्के मकान हैं। इनके गांवों में दो से तीन मंजिला मकान हैं।

ग्राम पंचायत अपात्रों को पीएम आवास का लाभ दे रही है, वहीं गांव में कई पात्र हितग्राहियों को इस योजना से वंचित रखा जा रहा है। ब्रिजीसनगर की ही तरह भाऊखेड़ी में कई गरीब पीएम आवास की आस लगाए हुए हैं। कुछ गरीबों के कच्चे मकान तो इतने क्षतिग्रस्त अवस्था में हैं कि आनेवाले बारिश के मौसम में ही यह गिर सकते हैं। भाऊखेड़ी की भंवरी बाई का कच्चा मकान है और वो कई बार पीएम आवास के लिए ग्राम पंचायत के चक्कर लगा चुकी है, लेकिन उसे अभी तक पीएम आवास नहीं दी गई है। केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना से भ्रष्टाचार के चलते पात्र लोग वंचित हैं। इस संबंध में धर्मेंद्र मेवाड़ा ने बताया कि ब्रिजीसनगर में सरपंच व सचिव ने कई अपात्रों को पीएम आवास दी हैं। मैंने इसकी शिकायत 17 अप्रैल को जन सुनवाई में कलेक्टोरेट में की थी। भाउखेड़ी के राजेश बनासिया ने बताया कि हमारे गांव में कई लोग पीएम आवास के लिए पात्र हैं, लेकिन अभी तक उन्हें आवास नहीं मिली है। कुछ लोगों के तो मकान कच्चे हैं जो इस बारिश में ही गिर सकते हैं।