• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • गेल, एनएफएल, मोतीपुरा प्लांट के रास्ते में रेलवे ओवरब्रिज बनना जरूरी
--Advertisement--

गेल, एनएफएल, मोतीपुरा प्लांट के रास्ते में रेलवे ओवरब्रिज बनना जरूरी

भास्कर संवाददाता|राघौगढ़़/विजयपुर साडा चौराहे पर राघौगढ से गेल, डोंगर, विजयपुर होते हुए राजस्थान को जोड़ने वाला...

Danik Bhaskar | Jul 13, 2018, 04:15 AM IST
भास्कर संवाददाता|राघौगढ़़/विजयपुर

साडा चौराहे पर राघौगढ से गेल, डोंगर, विजयपुर होते हुए राजस्थान को जोड़ने वाला स्टेट हाईवे बना है जिस पर करीब 2 साल पहले रेलवे द्वारा गेट न.79 को बंद करके एक अंडरपास बनाया गया था। उक्त अंडरपास अब लोगों की मुसीबत बनता जा रहा है। क्योंकि यहां आए दिन जाम के हालात पैदा हो रहे हैं।

प्रदेश को राजस्थान से जोड़ने वाले मार्ग पर स्थानीय लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इस मार्ग से डोंगर स्थित इंडियन आयल बॉटलिंग प्लांट के लगभग 150 ट्रक भरे हुए गैस सिलेंडर लेकर चलते हैं, वहीं इसके अलावा, राजस्थान मोतीपुरा प्लांट से संबंधित 18 पहियों वाले बड़े- बड़े लगभग 150 ट्रक एवं टैंकर भी प्रतिदिन इसी रास्ते से निकलते हैं, साथ ही आसपास के गांवों एवं गेल के ट्रैफिक को निकलने भी एकमात्र यही रास्ता है। इसी रास्ते से होकर गेल स्थित केंद्रीय विद्यालय तथा सत्य साईं विद्या विहार के हजारों बच्चे आवागमन करते हैं।

यह रेलवे अंडरपास लाइट व्हीकल्स के आवागमन के लिए बनाया गया है जबकि इस पर प्रतिदिन लगभग 300 ट्रक एवं टैंकरों के आवागमन से आए दिन जाम लगता है। अंधा मोड़ होने एवं एकल मार्ग पर दोनों ओर से वाहन चलने के कारण गंभीर दुर्घटनाओं की संभावनाएं बनी रहती हैं। इस रास्ते से दोनों स्कूलों के हजारों राघौगढ़, साडा कालोनी, आवन, कुंभराज, दौराना, सहित क्षेत्र के ग्रामों से हजारों लोगों का आना -जाना होता है।

साडा काॅलोनी चौराहे से राजस्थान की ओर जाने वाली सड़क पर लगा जाम ।

राघौगढ़ सेवा संघ ने उठाई ओवरब्रिज बनवाने की मांग

राघौगढ़ सेवा संघ ने उक्त स्थान पर आम लोगों की परेशानी को देखते हुए इस स्थान अब ओवरब्रिज बनवाने की मांग उठाई है। देखा जाए तो इस व्यस्त मार्ग पर वास्तव में इस रास्ते पर ओवरब्रिज की दरकार थी। क्योंकि यह हिस्सा गेल प्लांट, बाटलिंग प्लांट, एनएफएल, मोतीपुरा और आगे राजस्थान के कोटा मार्ग को जोड़ता है। किंतु तत्कालीन रेलवे अधिकारियों के ध्यान न देने के कारण आज हजारों स्कूली बच्चों स्थानीय निवासियों और वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सामाजिक संगठन राघौगढ़ सेवा संघ यहां ओवरब्रिज बनाए जाने की मांग कई बार उठा चुका है। जिसमें संस्था द्वारा 5 जुलाई को पुनः पत्राचार कर इस मार्ग पर आवश्यक रूप से ओवरब्रिज बनाए जाने की मांग उठाई है। संघ ने चेतावनी भी दी है कि यदि रेलवे द्वारा हमारी मांगों को गंभीरता से नहीं लिया गया तो बच्चों और क्षेत्रीय जनता के साथ मिलकर रेल रोको आंदोलन किया जाएगा।