--Advertisement--

नदी में नहाते समय गहरे पानी में चले गए भाई-बहन सहित 3 बच्चे डूबे, दो की मौत

मधुसूदनगढ़ तहसील के हरिपुरा के पीछे से निकली नदी पर परिजनों के साथ नहाने गए थे बच्चे भास्कर संवाददाता | मधुसूदनगढ़...

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 05:15 AM IST
मधुसूदनगढ़ तहसील के हरिपुरा के पीछे से निकली नदी पर परिजनों के साथ नहाने गए थे बच्चे

भास्कर संवाददाता | मधुसूदनगढ़

यहां से 15 किमी दूर उकावद चौकी के तहत हरिपुर गांव के पास से बहने वाली टेम नदी में बुधवार शाम को 3 बच्चे डूब गए। उनमें से दो बच्चियों की मौत हो गई और तीसरे 11 वर्षीय बालक को गांव के लोगों ने बचा लिया। उसे गुना रैफर कर दिया गया। बुधवार को श्राद्ध अमावस्या होने की वजह से गांव के लोग नदी में स्नान के लिए गए थे। घर के बुजुर्गों के साथ यह बच्चे भी चले गए। तभी यह हादसा हुआ।

मरने वालों में बैरसिया भोपाल निवासी राधा बाई (7 साल) पुत्री श्याम गुर्जर एवं राजगढ़ जिले के सुठालिया तहसील के लाग कोलूखंड निवासी सानू बाई गुर्जर (9 साल) शामिल हैं। वहीं सानू बाई का भाई गोविंद (11 साल) की स्थिति गंभीर है। उसे उपचार के लिए गुना भेजा गया। बताया जाता है कि यहां एक निजी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा है और अब उसकी हालत खतरे के बाहर है। यह बच्चे अपने नाना के यहां छुट्टियां मनाने आए थे। राधा बाई अपने नाना प्रेम सिंह के यहां 3 माह से रह रही थी। वहीं सानू बाई और उसका भाई मामा सर्जन सिंह के यहां कुछ दिन पूर्व ही आए थे। तीनों बच्चे पास-पास ही रह रहे थे। इसलिए सानू की नानी के साथ यह तीनों नहाने चले गए थे। पुलिस ने बताया कि तीनों बच्चों के साथ कुछ अन्य बच्चे भी खेल रहे थे। जब तीनों डूबने लगे तो उनमें से एक ने भागकर गांव में लोगों को यह बात बताई।

नदी ज्यादातर जगहों पर उथली, कुछ जगह गड्ढों में भरा है पानी

पुलिस का कहना है कि नदी ज्यादातर जगह पर तो उथली है, लेकिन कुछ जगहों पर उसमें गड्ढे हैं। उनमें इतना पानी रहता है कि छोटी उम्र के बच्चे डूब जाएं। दोनों बच्चियों की हाइट कम थी इसलिए वे अचानक इस गड्ढे में पहुंची तो डूबने लगीं। जबकि तीसरा बालक कुछ लंबा था, इसलिए वह पूरी तरह नहीं डूब पाया। उसे बचा लिया गया। लोगों का कहना था कि नदी में कुछ गहरी जगह बनाई भी जाती हैं, जिससे कि उनमें मवेशियों के लिए पानी एकत्रित रखा जा सके। संभवत: ऐसी ही गहरी जगह पर यह बच्चे डूब गए थे। हालांकि पुलिस फिलहाल निश्चित तौर पर कुछ भी नहीं कर पा रही है। गांव के लोग भी ज्यादा जानकारी देने की स्थिति में नहीं है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..