भोपाल

--Advertisement--

भोपाल में फर्जी कॉल सेंटर का पर्दाफाश, लोन सेटलमेंट के नाम पर 5 हजार अमेरिकियों से ठगे 70 करोड़ रुपए

आरोपी ईमेल से गिरफ्तारी वॉरंट भेजकर क्रिप्टो करेंसी या डॉलर में वसूली करते थे

Danik Bhaskar

Sep 07, 2018, 08:40 PM IST
साइबर सेल ने मुखबिर की सूचना प साइबर सेल ने मुखबिर की सूचना प

- इंद्रपुरी के एक फ्लैट में सालभर से चल रहा था फर्जी कॉल सेंटर

- साइबर सेल ने दो मास्टरमाइंड समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया

भोपाल. फर्जी कॉल सेंटर के जरिए अमेरिकियों से 70 करोड़ रुपए की ठगी का यहां खुलासा हुआ है। पुलिस ने इस मामले में शुक्रवार को यहां इंद्रपुरी इलाके में छापा मारकर छह लोगों को गिरफ्तार किया। एक अन्य आरोपी अहमदाबाद से पकड़ा गया। ये लोग फर्जी कॉल सेंटर के जरिए अमेरिका में रहने वालों को लोन सेटलमेंट का झांसा देकर रकम ऐंठते थे। अब तक ये लोग पांच हजार अमेरिकियों को अपने जाल में फंसा चुके थे।

पुलिस के मुताबिक, अहमदाबाद के एक कपड़ा कारोबारी का बेटा अभिषेक पाठक और भोपाल का रामपाल सिंह इस रैकेट के मास्टरमाइंड हैं। वे करीब एक साल से फर्जी कॉल सेंटर चला रहे थे। इन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले कई छात्रों को अस्थाई नौकरी पर रखा था। अभिषेक 12वीं पास है। आरोपियों ने आधुनिक सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर अमेरिका में रहने वालों के मोबाइल नंबर जुटाए।

ऐसे लेते थे लोगों को झांसे में : आरोपी सरकारी अफसर बनकर लोगों को कॉल करते थे। लोन सेटलमेंट के लिए वॉरंट और गिरफ्तारी का डर दिखाते थे। जो लोग झांसे में आ जाते उनसे अमेरिका में मौजूद उनका साथी माइकल डेनियल दो से तीन हजार डॉलर या इतने ही मूल्य के बिटकॉइन ऐंठ लेता था।

12 लाख अमेरिकी निशाने पर थे : अभिषेक ने पुलिस को बताया कि रामपाल के साथ वह अहमदाबाद के कॉल सेंटर में काम करता था। यहीं से उन्हें लोन लेने वाले 12 लाख अमेरिकियों का डेटा मिला। दोनों फर्राटेदार अमेरिकन इंग्लिश बोलते हैं। कॉल आने पर वे ही बात करते थे। बाकी लोग ईमेल पर फर्जी वॉरंट भेजकर दबाव बनाते थे। यह कॉल सेंटर रात आठ बजे से सुबह पांच बजे तक चलता था, क्योंकि इस दौरान अमेरिका में दिन होता है।

Click to listen..