भोपाल / 2016 में भी हुआ था ऐसा हादसा, डूबने से हुई थी पांच युवकों की मौत



छोटे तालाब में हादसे के बाद पड़े स्तर पर रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है। छोटे तालाब में हादसे के बाद पड़े स्तर पर रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है।
तालाब में लापता युवकों को खोजते बचाव दल। तालाब में लापता युवकों को खोजते बचाव दल।
तालाब से युवक की लाश बाहर निकालते बचावदल के लोग। तालाब से युवक की लाश बाहर निकालते बचावदल के लोग।
तालाब में जहां नाव डूबी है, उस स्थान का जायजा वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया। तालाब में जहां नाव डूबी है, उस स्थान का जायजा वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया।
तालाब में नाव से घटनास्थल की ओर जाते अधिकारी। तालाब में नाव से घटनास्थल की ओर जाते अधिकारी।
तालाब किनारे बचावदल की टीम। तालाब किनारे बचावदल की टीम।
madhya pradesh bhopal ganpati immersion boat capsizes
X
छोटे तालाब में हादसे के बाद पड़े स्तर पर रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है।छोटे तालाब में हादसे के बाद पड़े स्तर पर रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है।
तालाब में लापता युवकों को खोजते बचाव दल।तालाब में लापता युवकों को खोजते बचाव दल।
तालाब से युवक की लाश बाहर निकालते बचावदल के लोग।तालाब से युवक की लाश बाहर निकालते बचावदल के लोग।
तालाब में जहां नाव डूबी है, उस स्थान का जायजा वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया।तालाब में जहां नाव डूबी है, उस स्थान का जायजा वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया।
तालाब में नाव से घटनास्थल की ओर जाते अधिकारी।तालाब में नाव से घटनास्थल की ओर जाते अधिकारी।
तालाब किनारे बचावदल की टीम।तालाब किनारे बचावदल की टीम।
madhya pradesh bhopal ganpati immersion boat capsizes

  • तीन साल पहले हुई घटना के बाद नगर निगम ने नहीं लिया कोई सबक, किए गए थे तमाम दावे

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2019, 12:50 PM IST

भोपाल। राजधानी में शुक्रवार तड़के गणपति विसर्जन के दौरान नाव पलटने से 11 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई लोग लापता हैं। यह घटना सुबह करीब 4:30 बजे हुई जब काफी संख्या में लोग नाव पर सवार होकर खटलापुरा घाट पर गणपति को विसर्जित करने के लिए जा रहे थे। तीन साल पहले 2016 में छोटे तालाब में नाव पलटने से डूबने से पांच युवकों की मौत हो गई थी। इतनी बड़ी घटना होने के बाद भी नगर निगम और जिला प्रशासन ने कोई सबक नहीं लिया और ये हादसा हो गया। हालांकि 2016 में हुआ ये हादसा विसर्जन के दौरान नहीं हुआ था। उसवक्त भी सुरक्षा के तमाम दावे किए गए थे। लेकिन जो हुआ उसका नतीजा आज नजर आ रहा है। 

 

शुक्रवार सुबह हुई घटना के बारे में बताया जा रहा है कि करीब 20 फीट की गहराई पर दो नावें आपस में बंधी हुई उल्टी हालत में पड़ी हुई हैं। उन्हें क्रेन की मदद से निकाला गया। झील में गहराई पर गणेश प्रतिमाएं, कीचड़ और बांस समेत अन्य सामान के चलते गोताखोरों को शेष लोगों की तलाश में रेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।


मुख्यमंत्री ने दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश: मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल में आज तड़के गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान हुए हादसे को बेहद दुखद बताते हुए इसकी मजिस्ट्रियल जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि दुःख की इस घड़ी में सरकार हर पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। उनकी हरसंभव मदद की जाएगी। प्रत्येक मृतक के परिजन को सरकार की तरफ़ से 11-11 लाख रुपए मुआवजा देने के निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा कि इस घटना में जाँच में जिसकी भी लापरवाही सामने आयेगी, उसे बख़्शा नहीं जाएगा।


शिवराज ने कहा - हादसा हृदय विदारक : हादसे की सूचना मिलने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह हमीदिया अस्पताल स्थित पीएम हाउस पहुंचे। उन्होंने कहा कि हादसा हृदय विदारक है। उन्होंने कहा कि इस भीषण दुर्घटना में हताहत हुए लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ और ईश्वर से दिवंगत आत्मा को शांति देने व परिजन को इस गहन दुःख को सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूँ।

 

मंत्री पीसी शर्मा पहुंचे घटनास्थल: घटना की जानकारी लगने के बाद जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि घटना बहुत दुखद हैं। घटना की विस्तृत जांच कराई जाएगी। पता किया जाएगा कि घटना कैसे हुई। समस्त व्यवस्थाओं के बावजूद कहां कमी रह गई। उन सब तथ्यों का पता लगाया जाएगा और जो भी दोषी पाया जाएगा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं को रोका जा सके। शर्मा ने बताया कि 6 लोगों को रेस्क्यू कर लिया गया है। राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना