10.35 Cr में खरीदी 115 एंबुलेंस; चिकित्सा उपकरण लगाने 4.60 करोड़ का बजट भी मंजूर...लेकिन 5 महीने से कंपनी के यार्ड में खा रही हैं धूल / 10.35 Cr में खरीदी 115 एंबुलेंस; चिकित्सा उपकरण लगाने 4.60 करोड़ का बजट भी मंजूर...लेकिन 5 महीने से कंपनी के यार्ड में खा रही हैं धूल

Madhya Pradesh News: यह तो गलत है

Jan 31, 2019, 11:40 AM IST

भोपाल (Bhopal News). सड़क हादसे में घायलों और गंभीर रूप से बीमार मरीजों को त्वरित इलाज देने के लिए सरकार ने 10 करोड़ 35 लाख रु. खर्च कर 115 एंबुलेंस खरीदी हैं। लेकिन ये पांच महीने से भौंरी के पास ऑटोमोबाइल कंपनी के यार्ड में खड़ी धूल खा रही हैं। वजह- फेब्रिकेशन वर्क (एंबुलेंस में मेडिकल उपकरणों के इंस्टॉलेशन सहित जरूरी मोडिफिकेशन) नहीं होने के कारण ये एंबुलेंस ऑन रोड नहीं हो सकी हैं, जबकि इनके फेब्रिकेशन वर्क के लिए 4 करोड़ 60 लाख रु. अगस्त 2018 में स्वीकृत किए जा चुके हैं।

प्रदेश में अभी 150 खस्ताहाल एंबुलेंस (पांच साल से ज्यादा पुरानी) का संचालन किया जा रहा है। इनमें से 115 को नई एंबुलेंस से बदला जाना था। देरी के चलते शहरी क्षेत्रों में एंबुलेंस 108 का रिस्पॉन्स टाइम 20 से बढ़कर 25 मिनट हो गया है। यानी एनएचएम एमपी (नेशनल हेल्थ मिशन) अफसरों की लापरवाही के कारण मरीजों को फर्स्ट एड पांच मिनट देरी से मिल रही है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना