• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • Bhopal - मिलाजुला बंद... वैन न चलने से 40 फीसदी बच्चे नहीं पहुंच सके स्कूल
--Advertisement--

मिलाजुला बंद... वैन न चलने से 40 फीसदी बच्चे नहीं पहुंच सके स्कूल

भोपाल|पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस पार्टी द्वारा कराए गए बंद का सोमवार को मिलाजुला असर दिखाई...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:16 AM IST
भोपाल|पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरोध में कांग्रेस पार्टी द्वारा कराए गए बंद का सोमवार को मिलाजुला असर दिखाई दिया। चौक बाजार, 10 नंबर मार्केट और बैरागढ़ समेत शहर के मुख्य बाजार दोपहर 3 बजे तक बंद रहे। कुछ जगह पर जरूर कांग्रेसी कार्यकर्ता दुकानें बंद कराते नजर आए। सबसे ज्यादा परेशानी बच्चों काे हुई। वैन नहीं चलने से 40 फीसदी छात्र स्कूल नहीं पहुंच पाए।

स्कूलों के बाहर...बच्चों का इंतजार करते परिजन

शहर में बंद का असर कई स्कूलों में भी रहा। कुछ को छोड़कर अधिकांश शिक्षण संस्थाओं में सामान्य दिन की तरह ही कक्षाएं लगीं। वैन के नहीं चलने के कारण कई बच्चे छुट्टी के बाद परेशान होते रहे। यही स्थिति अरेरा हिल्स स्थित केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-1 की रही। हबीबगंज स्थित जवाहरलाल नेहरू स्कूल के बाहर दोपहर पौने दो बजे भी अभिभावकों की भीड़ लगी रही। अभिभावक पुनीत टंडन, जेके राजवैद्य ने बताया कि वैन वाला नहीं आया। इस वजह से ड्यटी छोड़कर बच्चों को लेने आना पड़ा।

दोपहर 3 बजे तक चौक बाजार बंद

तस्वीर चौक बाजार की है। यहां दोपहर तीन बजे तक दुकानें बंद रहीं। इसी तरह 10 नंबर मार्केट, भेल समेत कई इलाकों में बंद का असर रहा। हालांकि इस दौरान छोटी दुकानें खुली रहीं।

कुछ जगह... जबरन दुकानें और शाेरूम बंद कराने की कोशिश भी

न्यू मार्केट और रोशनपुरा में साेमवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कुछ दुकानों को जबरन बंद कराया। सुबह मिंटो हॉल के सामने बनी नोटरी की दुकानों को जबरन बंद कराने की कोशिश की। मारुती के शोरूम पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की भीड़ शोरूम बंद कराने के लिए पहुंची थी। एमपी नगर स्थित विशाल मेगामार्ट को भी जबरन बंद कराने की कोशिश की गई, लेकिन पुलिस के पहुंचते ही प्रदर्शनकारी चले गए। प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष और वरिष्ठ नेता गोविंद गोयल ने कहा कि भारत बंद में व्यापारियों और आम जनता का पूरा समर्थन रहा। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल का उपयोग आम आदमी के जीवन से सीधा जुड़ा है। पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत बढ़ने से महंगाई बढ़ी है।

कहीं से कोई शिकायत नहीं आई