Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Molestation And Eve Teasing Peal Time In Bhopal

ढाई साल में डायल 100 के पास भाेपाल से छेड़छाड़ के 4366 कॉल, शाम 6 से रात 10 तक सबसे ज्यादा शिकायतें

यह हकीकत डायल-100 को बीते 2 साल 6 महीने में छेड़छाड़ के आए 43 हजार 444 कॉल की पड़ताल में सामने आई है।

​अनूप दुबे | Last Modified - Jun 14, 2018, 08:04 AM IST

ढाई साल में डायल 100 के पास भाेपाल से छेड़छाड़ के 4366 कॉल, शाम 6 से रात 10 तक सबसे ज्यादा शिकायतें

भोपाल.भोपाल को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने के इरादे से न्यू-मार्केट को रात दो बजे तक चलाने का प्रयास किया गया। इसके लिए पुलिस से लेकर प्रशासन तक ने महिलाओं को विशेष सुरक्षा का दिलाने का भरोसा दिलाया, लेकिन हकीकत इसके उलट है। भोपाल समेत प्रदेश भर में छेड़छाड़ की घटनाएं शाम छह बजे से रात 10 बजे के बीच सर्वाधिक होती हैं। इस दौरान डायल-100 को छेड़छाड़ की आने वाली शिकायतों के 44 फीसदी कॉल होते हैं। दोपहर 12 से 2 बजे तक भी छेड़छाड़ से संबंधित शिकायतें होती हैं। यह हकीकत डायल-100 को बीते 2 साल 6 महीने में छेड़छाड़ के आए 43 हजार 444 कॉल की पड़ताल में सामने आई है। भोपाल में इतने समय में ही छेड़छाड़ के 4366 कॉल डायल-100 के पास पहुंची है।


पुलिस चला रही जागरूकता अभियान
महिलाओं, युवतियों और छात्राओं के साथ होने अपराधों को देखते हुए राजधानी में कई प्रयास किए गए। इसमें महिला थाना, निर्भया मोबाइल, मैत्री स्कूटर फोर्स, वी केयर फॉर यू, महिला हेल्प लाइन, मोबाइल फोन एप और शक्ति स्क्वाड के ऑप्शन दिए गए। डीआईजी और आईजी तक स्कूल-कॉलेज में छात्र-छात्राओं को अपराध और कानून की बारीकियों के बारे में जानकारी देकर जागरुक करने का अभियान चला रहे हैं।

छेड़छाड़ का मुख्य कारण

शाम 6 बजे से रात 10 बजे के बीच सबसे अधिक बच्चियों और महिलाओं का कोचिंग, बाजार और ऑफिस के कारण बाहर निकलने का समय होता है। ऐसे में भीड़-भाड़ और सुनसान रास्तों पर उन्हें अश्लील कमेंट्स और छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है। इसी तरह दोपहर 12 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच स्कूल और कॉलेज के छूटने का समय होता है। इस दौरान स्कूल कॉलेज के आसपास सर्वाधिक वारदातें होती हैं। अगर पुलिस इसके अनुसार चेकिंग और अन्य योजना बनाए तो छेड़छाड़ की वारदातों को कम किया जा सकता है।

31 दिन..94 कॉल -सबसे ज्यादा निशातपुरा से

मई में डायल-100 को छेड़छाड़ के 94 कॉल आए। निशातपुरा से 9 कॉल रहे। कमला नगर (8), टीटी नगर (7), कोलार, पिपलानी (6-6), एमपी नगर, हबीबगंज, शाहजहांनाबाद, शाहपुरा (4-4), बैरागढ़, कोहेफिजा, गोविंदपुरा, चूनाभट्टी, अशोका गार्डन, ऐशबाग (3-3), मिसरोद, श्यामला हिल्स, रातीबड़, बाग सेवनिया, स्टेशन बजरिया, (2-2), गांधी नगर, अयोध्या नगर, बैरसिया, नजीराबाद, अवधपुरी, जहांगीराबाद (1-1)।

थानों में दर्ज छेड़छाड़ के मामले

भोपाल में

2018- 207

2017- 188

2018- 3345

प्रदेश में

2017- 3211

आंकड़े एक जनवरी से 30 अप्रैल तक।

छेड़छाड़ वाले टॉप पांच शहर

भोपाल 4366

इंदौर 4316
जबलपुर 2790
ग्वालियर 2066
सागर 1772
आंकड़े नवंबर 2015 से लेकर मई 2018 तक के

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: dhaaee saal mein daayl 100 ke pass bhaaepaal se chheड़chhaaड़ ke 4366 kol, shaam 6 se raat 10 tak sabse jyada shikayten
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×