--Advertisement--

मध्य प्रदेश / भोपाल की 7 सीटों पर 150 उम्मीदवार, सबसे ज्यादा 39 नरेला में, पांच सीटों पर बागी बिगाड़ सकते हैं खेल



भोपाल उत्तर के प्रत्याशी आरिफ अकील की रैली में इस तरह बांटे गए नोट। भोपाल उत्तर के प्रत्याशी आरिफ अकील की रैली में इस तरह बांटे गए नोट।
X
भोपाल उत्तर के प्रत्याशी आरिफ अकील की रैली में इस तरह बांटे गए नोट।भोपाल उत्तर के प्रत्याशी आरिफ अकील की रैली में इस तरह बांटे गए नोट।

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2018, 12:26 PM IST

भोपाल। नामांकन दाखिले के आखिरी दिन सात सीटों पर 127 उम्मीदवारों ने फॉर्म जमा किए। अब भोपाल की सभी सीटों पर 150 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसमें सबसे ज्यादा 39 नरेला से हैं। 58 उम्मीदवारों ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन दाखिल किया है। भाजपा के बागियो ने भी अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। हुजूर, मध्य, गोविंदपुरा, बैरसिया और उत्तर से भाजपा और कांग्रेस के बागी उम्मीदवारों ने पर्चा दाखिल कर पार्टी की मुश्किल बढ़ा दी हैं। 

भोपाल की विधानसभा सीटों पर टिकट वितरण से भाजपा और कांग्रेस में उपजा असंतोष अब बगावत का रूप ले रहा है। भाजपा को जहां भोपाल उत्तर, हुजूर और बैरसिया तो कांग्रेस को भोपाल मध्य और गोविंदपुरा में बागियों से सामना करना पड़ेगा। नामांकन के अंतिम दिन दोनों दलों के बागियों ने भी नामांकन जमा कर दिए। अब दोनों दल इन बागियों को मनाने में जुटे हुए हैं। 14 नवंबर को नाम वापसी की अंतिम तारीख तक तस्वीर साफ होगी कि कौन बागी मैदान में रहता है और कौन नहीं‌? 

 

इन्होंने भरा नामांकन: कलेक्टोरेट में शुक्रवार सुबह सबसे पहले गोविंदपुरा विधानसभा से बीजेपी की प्रत्याशी कृष्णा गौर अपने ससुर पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के साथ नामांकन दाखिल करने पहुंची। हुजूर से कांग्रेस उम्मीदवार नरेश ज्ञानचंदानी समर्थकों के साथ नामांकन पत्र भरने के लिए पहुंचे। यहां से जितेंद्र डागा ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पर्चा भरा। इसी तरह बीजेपी से पूर्व विधायक रहे ब्रह्मानंद रत्नाकर ने बैरसिया विधानसभा सीट के लिए निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन फॉर्म दाखिल किया। जिला प्रशासन के अफसरों ने बताया कि 12 नवंबर को नामांकन फाॅर्म की जांच होगी। 14 नवंबर तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकते हैं। 

 

दोनों प्रमुख दलों के सामने अपनों से ही निपटना बड़ा मुद्दा 

भाजपा के बागियों में दो पूर्व विधायक शामिल हैं। 2013 में हुजूर से टिकट कटने के बाद शांत रहे पूर्व विधायक जितेंद्र डागा को उम्मीद थी कि इस बार मौका मिलेगा। लेकिन रामेश्वर शर्मा को फिर से टिकट मिलने से नाराजगी के बाद उन्होंने शुक्रवार को निर्दलीय नामांकन जमा कर दिया। इसी तरह बैरसिया से पूर्व विधायक ब्रह्मानंद रत्नाकर भी निर्दलीय मैदान में उतर गए हैं। भाजपा के लिए कठिन माने जाने वाली भोपाल उत्तर विधानसभा सीट पर पूर्व मंत्री रसूल अहमद सिद्दीकी की बेटी फातिमा सिद्दीकी को टिकट देने से नाराज पूर्व पार्षद रवींद्र अवस्थी ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन जमा कर दिया है। कांग्रेस में भी टिकट नहीं मिलने से नाराज नेता बागी होकर मैदान में उतर गए हैं। 2008 में भोपाल मध्य से कांग्रेस उम्मीदवार रहे नासिर इस्लाम ने निर्दलीय नामांकन जमा किया। इसी तरह राजीव गांधी कॉलेज के संचालक साजिद अली ने भी नामांकन जमा किया है। गोविंदपुरा से पार्षद गिरीश शर्मा को टिकट देने से नाराज रामबाबू शर्मा ने नामांकन जमा किया है।

िवधानसभा नामांकन निर्दलीय 
गोविंदपुरा 18 07 
नरेला 39 22 
मध्य 17 05
दक्षिण-पश्चिम 17 06 
उत्तर 17  08 
हुजूर 30 07 
बैरसिया 12 06 
     

 

नोट बांटते नजर आए कार्यकर्ता 

अकील की रैली में कुछ कार्यकर्ता नोट बांटते नजर आए। अकील ने इस बारे में कहा-मैं उन नेताओं में नहीं हूं, जो 200 रुपए और पेट्रोल देकर रैली में भीड़ लेकर आते हों। मुझे नोट बांटने के बारे में कोई जानकारी नहीं है।' कलेक्टर सुदाम खाड़े ने कहा कि रैली में नोट बांटना आचार संहिता का उल्लंघन है। शिकायत मिलने पर जांच के बाद कार्रवाई करेंगे। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..