जीवन में सुख-शांति का साधन है सिर्फ वीतराग विज्ञान : मुनिश्री

Bhopal News - मुनिश्री अरह सागर महाराज के सान्निध्य में भक्तिभाव से 64 ऋद्धि महामंडल विधान किया गया। भगवान पार्श्वनाथ के अभिषेक...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:35 AM IST
Bhopal News - mp news life is the only means of happiness and peace in vitrag science munishri
मुनिश्री अरह सागर महाराज के सान्निध्य में भक्तिभाव से 64 ऋद्धि महामंडल विधान किया गया। भगवान पार्श्वनाथ के अभिषेक व अन्य अनुष्ठान किए गए। आकर्षक मांडना सजाया गया भक्ति संगीत के बीच भजन प्रस्तुत किए गए। प्रवचन में मुनिश्री ने कहा कि जीवन में सुख-शांति का साधन है वीतराग विज्ञान। धर्म और कर्म दोनों करते रहो, जीवन सुखमय बना रहेगा।

इस अवसर पर संगीतकार अतुल जैन एवं उनकी टीम ने भजनों से भगवान की आराधना की। विधान के प्रमुख पात्र बने बृजेश, जयकुमार, अनिल जैन, दीपक जैन, आकाश जैन सहित प्रमुख पात्रों द्वारा मंडल पर अष्ट द्रव्यों का थाल सजाकर अर्घ्य समर्पित किए गए। प्रवक्ता अंशुल जैन ने बताया कि विश्व शांति महायज्ञ के साथ 64 ऋद्धि महामंडल विधान के समापन पर मुनिश्री ने कहा कि जीव अकेला ही कर्म करता है और अकेला ही कर्म फल भोगता है। इन्द्रियों के सुखों को कोई नहीं भोग पाया। इन्द्रियों का दर्प आत्मा के आनंद का नाश कर देता है। इन्द्रियों के दास मत बनो जीवन में सुख-शांति का साधन है वीतराग विज्ञान। आत्मा को परमात्मा बनाने की विधि चरित्र है। मंदिर समिति के अध्यक्ष देवेंद्र जैन मल्लू, संजय जैन, संतोष कुंदन, राजेन्द्र जैन, उषा, विनीता, सीमा ने मुनिश्री को श्रीफल समर्पित किए।

X
Bhopal News - mp news life is the only means of happiness and peace in vitrag science munishri
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना