समस्या के वक्त रुके रहना चिंता है और अागे बढ़ जाना चिंतन : मुनिश्री

Bhopal News - छात्र ने पूछा- चिंता व चिंतन में क्या फर्क है? मुनिश्री प्रमाण सागर महाराज ने तकनीकी शिक्षा के छात्रों को तनाव...

Jan 24, 2020, 06:46 AM IST
Bhopal News - mp news worrying about staying in the time of problem and increasing anxiety ahead munishree
छात्र ने पूछा- चिंता व चिंतन में क्या फर्क है?

मुनिश्री प्रमाण सागर महाराज ने तकनीकी शिक्षा के छात्रों को तनाव मुक्त जीवन की तकनीकें सिखाईं। उन्होंने सिविल व मैकेनिकल के छात्र-छात्राओं को जीवन जीने की कला और समस्याओं से पार पाने के कई आसान रास्ते सुझाए। दरअसल, मुनिश्री और छात्र-छात्राओं के बीच यह संवाद गुरुवार को पॉलिटेक्निक के सभागार में हुआ। मुनिश्री ने छात्र-छात्राओं के हर सवाल का जवाब दिया। उन्होंने कहा कि जब हम तनावग्रस्त हों तो मन को बहलाने के साधनों का उपयोग न करें, बल्कि इसका स्थाई समाधान यह है कि हम अपने मन को बदलें। मन तब बदलेगा जब हमारी सोच सकारात्मक होगी। उन्होंने छात्रों को समझाया कि जब हम लाइन खींचते हैं तो यह सिर्फ एक क्रिया है, लेकिन उसी लाइन में कई कोण बनाकर अन्य लाइनें खींचते हैं तो वह एक अाकृति बनाती है, जो कला है। यह बाहरी कला है पर भीतर कला यह है कि हम जीवन को किस तरह संवारते हैं। कार्यक्रम की शुरुआत में पॉलिटेक्निक के प्राचार्य अाशीष डोंगरे ने मुनिश्री प्रमाण सागर महाराज का स्वागत किया।

मुनिश्री प्रमाण सागर की क्लास में पहुंचे पॉलिटेक्निक के छात्रों ने पूछे तनाव दूर करने के उपाय

तनावमुक्त होने का स्थाई समाधान यह है कि सोच सकारात्मक रखें और अपने मन को भी बदलें

मुनिश्री की समझाइश... विवेक से मन व मस्तिष्क को नियंत्रित करें, गुस्सा अपने आप शांत हो जाएगा


मुनिश्री : कर्म ही पूजा है, इसलिए ड्यूटी के दौरान अलग से धर्म करने की जरुरत नहीं।


मुनिश्री : ट्रेन से पांव कटने के बाद भी एक महिला ने एवरेस्ट फतह किया। जो लोग निचले पायदान से शिखर तक पहुंचे हैं, ऐसे लोगों की जीवनी पढ़ो, अात्मविश्वास बढ़ेगा।


मुनिश्री : अच्छी बात है कि ब्रह्म मुहूर्त में नींद खुलती है, लेकिन पुन: सोना बंद कर दो, लक्ष्य समझ में अा जाएगा।


मुनिश्री : कक्षा में जिस तरह अपने शिक्षक की डांट सुनकर अाप उन्हें कुछ नहीं बोलते, क्योंकि वहां अाप विवेक का इस्तेमाल करते हैं। ठीक उसी तरह अन्य मौकों पर भी विवेक से मन व मस्तिष्क को नियंत्रित करें। गुस्सा शांत हो जाएगा।


मुनिश्री : बिना संकोच किए उनसे ही पुन: बात कहने का अनुरोध करें। संकोच करते रहोगे तो नुकसान आपका ही होगा। प्रभु से रोज प्रार्थना करो कि वह ज्ञान और विवेक दे।

मुनिश्री ने भारत भवन भी देखा, कहा- फिर आऊंगा

मुनिश्री ने भारत भवन भी देखा

यहां से मुनिश्री अपने संघ व श्रद्धालुओं के साथ भारत भवन पहुंचे। यहां उन्होंने कला वीथिका में विभिन्न कलाकारों की कलाकृतियां देखीं और उनकी प्रशंसा की। उन्होंने यहां से काफी देर तक बड़े तालाब को भी निहारा। मुनिश्री भारत भवन में संजोई गई कलाकृतियों से काफी प्रभावित दिखे। उन्होंने कहा कि वे यहां एक बार फिर अाएंगे। उन्होंने यहां से दिखाई दे रहे बड़े तालाब के बारे में भी अधिकारियों से जानकारी ली। इस दौरान यहां लगी चित्र प्रदर्शनी के अायोजक व कई कलाकार भी मुनिश्री से मिले और उन्होंने अपनी कलाकृतियों की जानकारी दी।

Bhopal News - mp news worrying about staying in the time of problem and increasing anxiety ahead munishree
X
Bhopal News - mp news worrying about staying in the time of problem and increasing anxiety ahead munishree
Bhopal News - mp news worrying about staying in the time of problem and increasing anxiety ahead munishree

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना