मप्र / हाफ मैराथन से पहले न तो प्रतिभागियों का मेडिकल चैकअप और न ही इंश्योरेंस

Neither the medical checkup nor the insurance of the participants before the half marathon
X
Neither the medical checkup nor the insurance of the participants before the half marathon

दैनिक भास्कर

Dec 03, 2019, 07:30 AM IST

भोपाल . रन भाेपाल रन हाफ मैराथन(21 किमी) के दाैरान रविवार को केएल प्रधान चाैराहे पर 54 वर्षीय पदम कुमार कुदेसिया की हार्ट अटैक से माैत हाे गई थी। वह हार्ट पेशेंट थे। ऐसे में जब पड़ताल की गई तो यह हकीकत सामने आई कि इस आयोजन में एथलेटिक फेडरेशन अाॅफ इंडिया (एएफअाई) के नियमों  को दरकिनार किया गया। इस तरह की मैराथन अाैर हाॅफ मैराथन के लिए एएफआई ही  मान्यता देती है, जाे भाेपाल रनर्स समिति के पास नहीं थी। न तो मैराथन की शुरुअात से पहले प्रतिभागियाें का स्वास्थ्य परीक्षण किया आैर न इंश्याेरेंस कराया। अायाेजकाें ने सिर्फ मैराथन का इंश्याेरेंस कराया था।

पदम के बड़े भाई संजय कुदेसिया ने भाेपाल रनर्स समिति पर अनदेखी का अाराेप लगाया है। पदम एलएनसीटी ग्रुप के अाेपन रजिस्ट्रेशन से प्रतियाेगिता में शामिल हुए थे। हादसे से पहले ही पदम ने अपनी बेटी आरजू और बेटे अमन को वीडियो कॉल किया था।

हाफ मैराथन के यह है नियम 
(एएफअाई के अनुसार )  

  •  प्रत्येक 2.5 किमी के अंतर पर मेडिकल स्टेशन हाेना जरूरी है। 
  •  मेडिकल स्टेशन के नजदीक ही मैराथन ट्रैक पर फिजियाेथैरपी रूम बनाने का प्रावधान है। 
  •  ट्रैक पर 2 से 2.5 किलाेमीटर के अंतर पर वाटर स्पंजिंग सेंटर होना चाहिए।  यहां धावक शरीर का तापमान बढ़ने पर स्वयं पर पानी डालकर शरीर काे ठंडा करते हैं। 
  •  धावकाें काे दाैड़ने के दाैरान एनर्जी ड्रिंक, पानी, फ्रूट्स अादि मुहैया कराने के लिए 2 से 3 किलामीटर के अंतर से रिफ्रेशमेंट सेंटर बनाए जाते हैं। 
  •  मैराथन जिस रूट पर हाे रही है। उस रूट पर पब्लिक ट्रैफिक पूरी तरह से बंद करने का प्रावधान है।

मान्यता नहीं है... मप्र एथलेटिक्स एसाेसिएशन के वीरेंद्र सिंह ने बताया कि मैराथन अाैर हाफ मैराथन का अायाेजन एएफअाई की निगरानी में हाेता है। भाेपाल रनर्स समिति के भाेपाल रन भाेपाल काे एथलेटिक्स फेडरेशन अाॅफ इंडिया अाैर मध्यप्रदेश एथलेटिक्स एसाेसिएशन से मान्यता नहीं है।

सीधी बात : डाॅ. अमिता चंद, भाेपाल रनर्स समिति की अध्यक्ष

सवाल : हाफ मैराथन के दाैरान पदम कुमार कुदेसिया की माैत हाे गई। इवेंट से पहले प्रतिभागियाें का मेडिकल टेस्ट क्याें नहीं हुअा ? 
जवाब : रजिस्ट्रेशन फार्म में ही प्रतिभागियाें काे निर्देश थे कि जाे अस्वस्थ है या किसी बीमारी की दवा ले रहे हैं, वह प्रतियाेगिता में शामिल हाेने के दाैरान अपना मेडिकल प्रिसक्रिप्शन साथ रखें। 
सवाल : हाॅफ मैराथन में एएफअाई के मानकाें के अनुसार मेडिकल स्टेशन, फिजियाेथैरेपी सेंटर सहित दूसरे जरूरी इंतजाम नहीं किए गए ? 
जवाब : यह कहना गलत है। हाफ मैराथन ट्रैक पर 15 स्थानाें पर एंबुलेंस की ड्यूटी लगाई थी। जाे कांप्टीशन के दाैरान ट्रैक पर माैजूद रहीं। प्रत्येक एंबुलेंस के नजदीक मेडिकल एड, ड्रिकिंग वाटर स्टेशन बनाए थे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना