--Advertisement--

एमपी पीएससी भर्ती घोटाला: कमलनाथ ने की सीबीआई जांच की मांग

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एमपी पीएससी भर्ती में हुए घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है

Dainik Bhaskar

Aug 21, 2018, 02:22 PM IST
new mppsc scam, vypam

भोपाल। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एमपी पीएससी भर्ती में हुए घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। कमलनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार के दौरान जितनी भी भर्तियां सरकारी नौकरियों में हुई हैं उनमें भारी पैसा लिया गया है। इन घोटालों के उजागर होने से साफ हो गया है कि योग्य उम्मीदवार की जगह पैसे देने वालों को नियुक्तियां दी गईं। इस वजह से मेहनती युवा आज भी बेरोजगार बैठे हैं। उन्होंने कहा कि व्यापमं घोटाले में दैनिक भास्कर का ये बड़ा खुलासा साबित करता है कि भाजपा शासनकाल में सरकारी नौकरियां किस तरह दी गई हैं।

क्या है मामला

दैनिक भास्कर ने 21 अगस्त 2018 के अंक में एमपी पीएससी घोटाले का समाचार प्रकाशित किया गया है। जिसमें बताया गया है कि व्यापमं घोटाले के मुख्य आरोपी डॉ. जगदीश सागर ने एमपी पीएससी के माध्यम से डिप्टी कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी (सीईओ), वाणिज्यिक कर अधिकारी (सीटीओ), आबकारी निरीक्षक बनवाने के भी सौदे किए थे। उसने छह सौदे 95 लाख में किए। इसका खुलासा उसकी डायरी से हुआ है, जिसे जांच एजेंसियों ने जब्त किया था। डायरी के कुछ पन्ने भास्कर के पास हैं।

डिप्टी कलेक्टर के लिए 20 लाख रु. में डील अौर 10 लाख एडवांस लेने की बात लिखी है। सीईओ और सीटीओ के लिए 15 लाख का उल्लेख है। इनके लिए आवेदक से आठ लाख लेना लिखा हैै। हर सौदे में 25 हजार रुपए नॉन रिफंडेबल के रूप में लेने का उल्लेख है। व्यापमं घोटाले की जांच एसटीएफ के साथ सीबीआई भी कर रही है, पर जांच एजेंसियां मुख्य रूप से पीएमटी और प्री-पीजी परीक्षा तक ही केंद्रित रहीं।

डायरी में आवेदक, उसके पिता का नाम, पता, शहर, मोबाइल नंबर भी लिखा है। आवेदक लड़का है या लड़की? वह किस कैटेगरी से है, यह भी लिखा है। इसी हिसाब से डॉ. सागर डील राशि तय करता था। डायरी में कुछ सौदों के साथ 'कन्फर्म' जैसे शब्द का भी उपयोग हुआ है। एक आबकारी इंस्पेक्टर पद के लिए 10 लाख में हुई डील में इसका उपयोग है, जिसमें पांच लाख रुपए एडवांस लेने की बात लिखी है। एक डील जो 18 लाख में अनारक्षित वर्ग के आवेदक के लिए हुई है, उसमें पद का जिक्र तो नहीं है लेकिन 'वीआईपी' और 'मामाजी' जैसे शब्द लिखे हुए हैं। ये शब्द संकेत देते हैं कि सौदा डॉ. सागर के किसी करीबी ने किया होगा। हालांकि इन शब्दों के मायने और संबंधित आवेदक का चयन पीएससी में हुआ था या नहीं, इसकी जांच होना बाकी है। शेष | पेज 10 पर


डॉ. सागर के घर से एसटीएफ ने जब्त की थी डायरी


पीएमटी घोटाले में डॉ. सागर का नाम आने के बाद एसटीएफ ने कई जगहों पर छापामारी और पूछताछ की थी। इस दौरान डॉ. सागर के घर से यह डायरी मिली थी, जिसके 70 पन्नों में पीएमटी, व्यापमं की ड्रग इंस्पेक्टर, पुलिस भर्ती के साथ ही पीएससी के सौदे के जिक्र है।

सबूत के लिंक के रूप में कड़ी है यह


डायरी इस डायरी में मिले नामों के आधार पर ही एसटीएफ ने जांच कर पीएमटी व प्री-पीजी में प्रवेश लेने वाले छात्रों व उनके परिजनों से पूछताछ की थी। इसमें पीएमटी के सौदे करने की पुष्टि हुई थी। इनके बयान और डायरी में मिले सौदे लिंक बनकर मजबूत सबूत बने हैं। इन्हें जांच एजेंसियों ने कोर्ट में भी पेश कर दिए हैं। डायरी में पीएससी के जरिए छह पदों पर भर्ती के लिए सौदों का जिक्र है। इन सौदों की कुल राशि करीब 95 लाख रुपए है।

पुलिस में भर्ती के लिए केवल लिखित परीक्षा की गारंटी


डायरी में दर्ज जानकारी के हिसाब से डॉ. सागर ने पुलिस विभाग में भर्ती के लिए व्यापमं द्वारा कराई परीक्षा में भी कई पदों के लिए डील की थी। डायरी में यह भी लिखा कि आवेदक को लिखित और फिजिकल दोनों परीक्षा में पास कराना है तो इसके लिए अलग डील है। केवल लिखित में पास कराना है तो कम रुपए लगेंगे। यह सौदे चार से पांच लाख रुपए के हैं। यह भी लिखा कि फिजिकल परीक्षा में पास कराने की गारंटी नहीं है।

पांच साल पहले मिल गए थे पीएससी सौदे के संकेत, पर नहीं की जांच


दिल्ली क्राइम ब्रांच ने 2013 में चार आराेपियों को पकड़ा था, जो विभिन्न राज्यों की परीक्षाओं में पास कराने का सौदा करते थे। इन्होंने एमपी पीएससी में भी डील करने की बात कही थी। मप्र एसटीएफ ने भी इनसे पूछताछ की थी। बाद में पीएससी से राज्य सेवा परीक्षा-2012 की सूची व अन्य जानकारी मांगी थी। बाद में पीएमटी घोटाले के तूल पकड़ने और इसके आरोपियों के सामने आ जाने के बाद पीएससी मामले की विस्तृत जांच नहीं हुई। वहीं, डायरी में जिन लोगों के नाम से सौदों का जिक्र है, उनसे भास्कर ने बात की। इनमें से अधिकांश लाेगों का कहना था कि वे डॉ. सागर को नहीं जानते। दो लोगों ने ही स्वीकार किया कि वे उससे मिले थे, लेकिन पीएमटी में सिलेक्शन करवाने के लिए। पीएससी के जरिए भर्ती के लिए नहीं।

X
new mppsc scam, vypam
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..