• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • Bhopal - सालभर में नहीं बदली 2.2 किमी लाइन, नतीजा-स्मार्ट रोड का काम तो अटका ही, एक लाख आबादी भी पानी के लिए परेशान
--Advertisement--

सालभर में नहीं बदली 2.2 किमी लाइन, नतीजा-स्मार्ट रोड का काम तो अटका ही, एक लाख आबादी भी पानी के लिए परेशान

इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | भोपाल डिपो चौराहा से पॉलिटेक्निक चौराहा तक निर्माणाधीन 2.2 किमी स्मार्ट रोड की पाइप...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 03:25 AM IST
इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | भोपाल

डिपो चौराहा से पॉलिटेक्निक चौराहा तक निर्माणाधीन 2.2 किमी स्मार्ट रोड की पाइप लाइन बदलने का काम एक साल में भी पूरा नहीं हो पाया है। इसकी वजह से पिछले छह महीने से स्मार्ट रोड का काम अटका हुआ है। इस पाइप लाइन बदलने से जुड़े कामों में बरती जा रही लापरवाही का नतीजा है कि एक लाख आबादी पानी के लिए परेशान है। पिछले छह दिन से नार्थ टीटी नगर और बाणगंगा क्षेत्र में पानी सप्लाई नहीं होने से नाराज पार्षद सरोज राकेश जैन ने सोमवार को नगर निगम मुख्यालय पर धरना दिया। प्रदर्शन के बाद फूटे वाॅल्व को डायरेक्ट करके और कुछ पाइपलाइन को बायपास करके आनन-फानन में पानी सप्लाई की गई। अपर आयुक्त एमपी सिंह ने उन्हें आश्वस्त किया कि वार्ड में अब रोजाना पानी सप्लाई होगा, जबकि श्यामला फिल्टर प्लांट से अभी एक दिन छोड़ कर पानी सप्लाई हो रहा है। प्रदर्शन के बाद नगर निगम प्रशासन ने जोन-6 के सहायक यंत्री एचएस श्रीवास्तव को हटा दिया। जैन का आरोप था कि पिछले एक महीने से श्रीवास्तव से कोई संपर्क नहीं हो पाया है।

जिम्मेदारों पर कार्रवाई के नाम पर जोन 6 के सहायक यंत्री श्रीवास्तव काे हटाया

समस्या बढ़ने की यह भी वजहें

1. दो साल पहले जवाहर चौक पर पानी की नई टंकी बन गई है, लेकिन मोटर नहीं लगी। अधिकारी हर बार अगले महीने तक काम पूरा होने का आश्वासन दे देते हैं।

2. इस क्षेत्र में श्यामला हिल्स के दो एमजीडी प्लांट से सप्लाई होती है। कई बार तालाब में पानी की कमी के कारण टंकियां भर नहीं पातीं। एक दिन छोड़ कर सप्लाई करने पर भी व्यवस्था नहीं सुधरी।

3. बुलेवर्ड स्ट्रीट के लिए चल रही खुदाई के कारण कई बार पाइप लाइन फूट जाती है, जो दो - तीन दिन में भी नहीं सुधरती।

4. कस्तूरबा स्कूल के पास एक हफ्ते पहले वाॅल्व फूट गया।

5. महापौर के निर्देश पर वार्ड में 27 सिंटेक्स टंकियां रखीं गईं, लेकिन इनमें से कुछ को ही भरा जा रहा है।

एक माह पहले कहा था-10 दिन में होगा काम

काम न आए मेयर के पांच दौरे

महापौर आलोक शर्मा ने इस साल में स्मार्ट रोड पर चल रहे कार्यों का निरीक्षण करने के लिए पांच बार दौरे किए। सबसे पहले 26 फरवरी फिर 22 मार्च, 4 जून, 17 जुलाई और 8 अगस्त को महापौर ने यहां दौरा किया था। हर बार वे जल्दी काम पूरा करने के लिए कहते रहे। 8 अगस्त को निरीक्षण के दौरान महापौर ने दस दिन में काम पूरा करने को कहा था, लेकिन महीने भर बाद भी स्थिति जस की तस बनी हुई है।

प्लांट पर लापरवाही, इंजीनियरों को लगाई फटकार

नगर निगम आयुक्त अविनाश लवानिया ने सोमवार को श्यामला हिल्स स्थित दोनों फिल्टर प्लांट का दौरा किया। यहां पानी सप्लाई में बरती जा रही लापरवाही पर उन्होंने चीफ इंजीनियर एआर पवार सहित अन्य इंजीनियरों पर नाराजगी जताई। लवानिया ने कहा कि लोग उन्हें गंदे पानी के फोटो भेज रहे हैं। प्लांट से सप्लाई में लापरवाही नहीं सहन की जाएगी। उन्होंने दोनों प्लांट के फिल्टर मीडिया की क्लीनिंग करने और उनकी हाइट बढ़ाने को कहा। बरसात के बाद इन्हें बदला जाएगा।

एक हफ्ते में पूरा हो जाएगा लाइन की शिफ्टिंग का काम


वैकल्पिक इंतजाम होने थे : गुप्ता

स्थानीय विधायक उमाशंकर गुप्ता ने स्मार्ट रोड पर पाइपलाइन शिफ्टिंग शुरू होते ही तत्कालीन निगमायुक्त छवि भारद्वाज से कहा था कि वैकल्पिक इंतजाम करके ही खुदाई की जाए। इसके लिए मेन पाइपलाइन से जुड़ी फीडर लाइनों को किसी अन्य मेनलाइन से जोड़ा जाना था। पूर्व निगमायुक्त प्रियंका दास से भी उन्होंने इस संबंध में चर्चा की थी। सोमवार को भी गुप्ता ने कमिश्नर अविनाश लवानिया को समस्या की गंभीरता के बारे में अवगत कराया।