मध्यप्रदेश / छात्रों को कुसंगति से बचाने स्कूलों में बनेंगे ओजस यूथ क्लब



Ojas Youth Club
X
Ojas Youth Club

  • मार्गदर्शन यूथ क्लब में 14 से 18 वर्ष के छात्रों के शारीरिक, व्यक्तित्व, बुद्धि व सामाजिक विकास पर जोर दिया जाएगा
  • शिक्षक की निगरानी में काम करेंगे यूथ क्लब, सार्थक व उत्पादक गतिविधियों से छात्रों को जोड़ा जाएगा

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2019, 05:16 PM IST

भोपाल। हाई स्कूल व हायर सेकंडरी स्कूलों के छात्रों का शारीरिक, व्यक्तित्व, बुद्धि व सामाजिक विकास करने के लिए शैक्षणिक संस्थाओं में यूथ क्लबों के गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इन क्लबों को ओजस नाम दिया गया है। यूथ क्लब में 14 से 18 वर्ष के छात्रों के शारीरिक, व्यक्तित्व, बुद्धि व सामाजिक विकास पर जोर दिया जाएगा।


क्लबों के माध्यम से भिन्न-भिन्न प्रकार की गतिविधियां आयोजित कर छात्रों का मार्गदर्शन किया जाएगा, ताकि वे जोखिम के कामों में संलिप्त नहीं हों, साथ ही कुसंगति से भी दूर रहें। लोकशिक्षण संचालनालय ने माना है कि हाईस्कूल व हायर सेकंडरी स्कूलों में पढ़ रहे 14 से 18 वर्ष के छात्र-छात्राएं दिशा-हीनता के कारण गलत संगत में पड़ जाते हैं। परिवार के बड़े लोगों की उचित निगरानी के अभाव में छात्रों के पास समय व्यतीत करने के लिए खास उद्देश्य दिमाग में नहीं रहता।

 

इसलिए वह जोखिमभरा काम में लिप्त हो जाते हैं। इसलिए स्कूल शिक्षा विभाग ने निर्णय लिया है कि स्कूल समय के बाद छात्रों की रुचियों को विकसित करने व उनका मार्गदर्शन करने जिले के छतरपुर, नौगांव, लवकुशनगर, बड़ामलहरा, बिजावर, बरीगढ़, गौरिहार और राजनगर ब्लॉक के 211 हायर सेकंडरी व हाई स्कूलों में यूथ क्लब का गठन किया जाएगा।

इस क्लब को ओजस नाम दिया जाएगा।

 

इन क्लबों की गतिविधियों के माध्यम से छात्र-छात्राएं खाली समय में स्वस्थ्य व सकारात्मक कामों में व्यस्त रह सकें। स्कूल जाने से पहले व स्कूल के बाद सार्थक व उत्पादक गतिविधियों से छात्रों को संलग्न किया जाएगा। स्कूल के बाद छात्रों को गलत रास्ते पर चलने से रोकने का मार्गदर्शन किया जाएगा। स्कूल प्राचार्य, यूथ क्लब के लिए किसी एक शिक्षक को प्रभारी बनाएंगे। 


प्रभारी शिक्षक, आसपास के विषय विशेषज्ञों से संपर्क का उनके व्याख्यान समय समय पर कराएगा, ताकि छात्रों को जीवन से जुड़ी नई राह मिल सके। अभी क्लबों के गठन की प्रक्रिया शुरू हो गई है। उसके बाद गतिविधियों की सूची तैयार कर उनके आयोजन पर फोकस किया जाएगा। यूथ क्लब में एक दिन में डेढ़ घंटे का समय ही एक्सट्रा कैरीकूलर गतिविधियों के लिए दिया जाएगा। 2500 रुपए की राशि यूथ क्लब के आयोजनों के लिए प्रत्येक स्कूल को मिलेगी। जिसमें से 100 रुपए प्रतिदिन व्यय किए जा सकेंगे।


छात्रों की रुचि अनुसार कराएंगे खेलकूद
शिक्षा विभाग के सहायक संचालक जेएन चतुर्वेदी ने बताया कि संचनालया से पिछले सप्ताह आदेश आया था। जिसे जिले भर के स्कूलों में भेज दिया गया है, जिनके पालन प्रतिवेदन भी आना शुरू हो गए हैं। इस यूथ क्लब के माध्यम से खेलकूद गतिविधियों के आयोजन छात्रों की रुचि अनुसार कराए जाएंगे। इसके लिए स्कूल में उपलब्ध खेल-कूद सामग्री का उपयोग किया जा सकेगा। गीत-संगीत, कुकिंग, एक्टिंग व स्थानीय लोक कला आदि को प्रोत्साहित किया जाएगा। इससे छात्रों को शिक्षा के साथ व्यवहारिक और नैतिक शिक्षा का भरपूर लाभ मिल सकेगा।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना