मप्र / निकाह के लिए ऑनलाइन आवेदन करने पर मिलेंगी काजी, मुफ्ती की सेवाएं



online molbi
X
online molbi

  • डिजिटल हुई मसाजिद कमेटी 1920 से मौजूदा वर्ष तक का रिकॉर्ड सहेजा, ब्योरा masajidcommitteebhopal.in पर अपलोड

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2019, 11:03 AM IST

भोपाल। अब निकाह के लिए मसाजिद कमेटी में परेशान होने की जरूरत नहीं है। ऑनलाइन आवेदन करने पर निकाह के लिए काजी, मुफ्ती की सेवाएं उपलब्ध हो जाएंगी। निकाह प्रमाण-पत्र लेने के लिए भी भटकना नहीं पड़ेगा। यह भी ऑनलाइन मिल सकेगा। दरअसल, मसाजिद कमेटी ने अब पूरा ब्योरा वेबसाइड masajidcommitteebhopal.in पर अपलोड कर दिया है। इसके जरिए अब कौन सी मस्जिद में कौन से इमाम-मुअज्जिन की सेवाएं ली जा रही है, यह भी पता चल जाएगा।

 

कमेटी के सचिव एसएम सलमान ने कहा कि निकाह का निर्धारित शुल्क अॉनलाइन अदा किया जा सकेगा। इसके लिए जरूरी दस्तावेज अौर फोटो स्कैन करने पर निकाह कौन पढ़ाएगा, इसकी जानकारी मिल सकेगी। अगर उसे निकाह का प्रमाण पत्र अंग्रेजी, हिंदी या उर्दू भाषा में चाहिए तो वह भी ले सकेगा। संस्था 1920 से मौजूदा वर्ष तक के रिकॉर्ड को कम्प्यूटरीकृत कर रही है। वहीं, निकाह-तलाक संख्या अौर तलाक देने की प्रक्रिया भी इसके जरिए लोग ले सकेंगे। कोई भी फतवे का आवेदन करके इसे भी ले सकता है। सलमान के मुताबिक वेबसाइड को लॉन्च करने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ से समय मांगा है। उम्मीद है कि जल्द ही वे समय देंगे।


वेबसाइट पर ही मिल जाएगा मसाजिद कमेटी का 100 साल पुराना रिकॉर्ड
मसाजिद कमेटी की वेबसाइट में अापको संस्था के 100 साल पुराने इतिहास की भी जानकारी मिलेगी। अलग-अलग कालखंड में कौन-कौन शहर काजी अौर मुफ्ती रहा, यह भी जान सकेंगे। कमेटी से संबद्ध भोपाल, सीहोर अौर रायसेन की करीब 350 मस्जिदों का ब्योरा भी उपलब्ध रहेगा। ताजुल मसाजिद, मोती मस्जिद जैसी प्रमुख मस्जिदों की तस्वीरों से अाप उनकी भव्यता को समझ सकेंगे। सचिव खान के अनुसार इसका फायदा यह है कि विदेश में रह रहे भोपाल, सीहोर अौर रायसेन जिले के नागरिकों को अपने पूर्वजों या खुद के निकाह का सर्टिफिकेट चाहिए तो वह निर्धारित राशि अदा करके हिंदी अथवा अंग्रेजी भाषा में इसे ले सकेंगे। यह व्यवस्था उन्हें भोपाल से जोड़ेगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना