पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Opposition Councilors Uproar Over Naming Metro In BMC Meeting; Said Will Ask CM To Reconsider

बीएमसी की बैठक में मेट्रो के नामकरण को लेकर विपक्षी पार्षदों का हंगामा; बोले- सीएम से करेंगे पुनर्विचार की मांग

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल नगर निगम में अलग-अलग मुद्दों को लेकर जमकर हंगामा।
  • भोपाल नगर निगम परिषद की बैठक में खटलापुरा हादसे में दी गई मुआवजा राशि को लेकर विवाद
  • नगर निगम अध्यक्ष ने आसंदी के ऊपर लगा पुराना मोनो हटवाया, नया लगवाया, तब शुरू हो सकी बैठक

मनोज जोशी, भोपाल. भोपाल नगर निगम परिषद की बैठक में अलग-अलग मुद्दों को जमकर हंगामा हुआ। सदस्य कई बार अध्यक्ष की आसंदी तक पहुंच गए और नारेबाजी की। नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर और कांग्रेस पार्षद शफीक ने भोपाल मेट्रो का नाम भोज मेट्रो रखे जाने का विरोध किया। उन्होंने कहा कि इसे भोपाल मेट्रो के नाम से ही रहना चाहिए। 
 
नेता प्रतिपक्ष मो. सगीर ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलकर मेट्रो के नाम पर पुनर्विचार करने की मांग करेंगे। इस दौरान हंगामा करते हुए कांग्रेस पार्षदों ने महापौर और कमलनाथ मुर्दाबाद के नारे लगाए। ये मामला शांत हुआ तो भाजपा पार्षदों ने हंगामा शुरू कर दिया। उन्होंने निगम अध्यक्ष से की  भोपाल का नाम बदलकर भोजपाल करने की मांग रख दी। मोहम्मद सगीर ने एक आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा कि राजा भोजपाल का भोपाल से कोई लेना देना नहीं है।
 

कांग्रेस पार्षद ने अपने ही नेता के खिलाफ खोला मोर्चा 
इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कांग्रेस पार्षद मोनू सक्सेना ने अपने नेता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। उन्होंने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि वह सगीर के बयानों से बिलकुल सहमत नहीं हैं। उन्होंने कहा कि पार्षदों के साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलेंगे और सगीर को पार्टी से निष्कासित करने की मांग रखेंगे।  
 

अध्यक्ष ने हटवाया नवाबकालीन मोनो 
अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान ने बैठक शुरू होने के ठीक पहले अपनी आसंदी के ऊपर लगा पुराना मोनो हटवा दिया। इसके बाद बैठक शुरू हुई। इस वजह से दो घंटे देरी से बैठक शुरू हो पाई। पहले परिषद की बैठक 10.30 बजे से शुरू होनी थी, लेकिन वह दो घंटे की देरी से 12.40 बजे से शुरू हो पाई। जिस मोनो को हटाया गया है, उसमें नवाबकालीन मछलियां लगी थीं, अब राजा भोज की फोटो वाला मोनो लगाया गया है। 
 

खटलापुरा हादसे को लेकर आरोप-प्रत्यारोप 
भाजपा पार्षदों ने आरोप लगाया कि खटलापुरा हादसे में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 11 लाख रुपए की घोषणा की, लेकिन सहायता राशि 4 लाख ही दी गई। कांग्रेस पार्षदों का आरोप था कि नगर निगम की लापरवाही के कारण 11 लोगों की जान गई। वे इस पर चर्चा की मांग कर रहे थे। गणेश विसर्जन के दौरान 11 युवकों की मौत की घटना पर चर्चा की मांग को लेकर कांग्रेस पार्षदों ने अध्यक्ष का आसंदी का घेराव किया। 
 

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - धर्म-कर्म और आध्यामिकता के प्रति आपका विश्वास आपके अंदर शांति और सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर रहा है। आप जीवन को सकारात्मक नजरिए से समझने की कोशिश कर रहे हैं। जो कि एक बेहतरीन उपलब्धि है। ने...

और पढ़ें