• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • People were complaining of the irrigation of vegetables in sewage retreat where sewage water was coming from; Staff made panchnama

मप्र / जहांनुमा रिट्रीट में सीवेज वाटर से हाे रही थी सब्जियाें की सिंचाई, लोगों ने की शिकायत; अमले ने पंचनामा बनाया

जहांनुमा रिट्रीट होटल परिसर में लगी सब्जियों की सिंचाई सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से होती मिली। जहांनुमा रिट्रीट होटल परिसर में लगी सब्जियों की सिंचाई सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से होती मिली।
X
जहांनुमा रिट्रीट होटल परिसर में लगी सब्जियों की सिंचाई सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से होती मिली।जहांनुमा रिट्रीट होटल परिसर में लगी सब्जियों की सिंचाई सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से होती मिली।

  • जहांनुमा रिट्रीट प्रबंधन ने नगर निगम के आरोप को किया खारिज

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 06:22 AM IST

भाेपाल . नगर निगम अमला बुधवार की सुबह वन विहार राेड स्थित जहांनुमा रिट्रीट पहुंचा। यहां अमले काे होटल परिसर में लगी सब्जियों की सिंचाई सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से हाेती मिली। इस पर अमले ने स्पाॅट फाइन लगाने की बात कही, लेकिन माैके पर जहांनुमा का काेई जिम्मेदार व्यक्ति ही नहीं पहुंचा। ऐसे में स्पाॅट फाइन की कार्रवाई नहीं हाे पाई। निगम अमला पंचनामा बनाकर लाैट आया। निगम अधिकारियाें का कहना है कि जहांनुमा प्रबंधन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है। हालांकि, जहांनुमा प्रबंधन ने निगम के इस दावे काे खारिज कर दिया है। 


वन विहार राेड पर माॅर्निंग वाक के लिए जाने वाले लाेगाें ने निगम के अधिकारियाें से शिकायत की थी कि जहांनुमा रिट्रीट की ओर से सीवेज की असहनीय बदबू आती है। इससे आशंका है कि सीवेज के पानी से यहां सब्जियाें समेत अन्य फसलों की सिंचाई की जा रही है। इसे जांचने के लिए सुबह करीब 7 बजे नगर निगम उपायुक्त विनाेद शुक्ला, क्षेत्रीय एएचअाे, जाेनल अधिकारी समेत स्टाफ काे लेकर जहांनुमा पहुंचे थे। इस दाैरान सीवेज टैंक से सीधे पाइप लगाकर सब्जियाें की सिंचाई की जा रही थी। निगम अधिकारियाें का दावा है कि सब्जियाें की सिंचाई के दाैरान पूरे परिसर में बदबू फैली हुई थी। यहां सब्जियों के साथ ही गेहूं और गन्ने की फसल को भी इसी पानी से सींचा जा रहा था। काफी जद्दोजहद के बाद भी कोई जिम्मेदार सामने नहीं आया तो अमला पंचनामा बनाकर लौट गया।

जिम्मेदारों ने नहीं दिखाया एसटीपी

जहांनुमा रिट्रीट के कर्मचारियाें ने निगम अमले काे बताया कि एसटीपी बना हुअा है। सीवेज वाटर काे इसमें ट्रीट किया जाता है। इसके बाद ही उसे दाेबारा उपयाेग किया जाता है। परिसर में बाेरवेल भी है। सिंचाई के लिए बाेरवेल का पानी भी उपयाेग किया जाता है। हालांकि, जब निगम अमले ने एसटीपी देखना चाहा ताे किसी ने उसका उपयाेग हाेता नहीं दिखाया।

निगम और होटल प्रबंधन के अपने-अपने तर्क अनट्रीटेड वाटर से हो रही थी सिंचाई 
जहांनुमा रिट्रीट में सब्जियाें की सिंचाई सीधे ताैर पर सीवेज के अनट्रीटेड वाटर से की जा रही थी। एसटीपी बना है, लेकिन उसका उपयाेग नहीं किया जा रहा था। फिलहाल पंचनामा बनाया गया है, अागे कानूनी कार्रवाई की जाएगी। - विनाेद शुक्ला, उपायुक्त, नगर निगम

सीवेज के पानी के उपयोग की बात सही नहीं
12 एकड़ का परिसर है। 10 एकड़ में सब्जियां, गेंहू अादि उगाए जाते हैं। सिंचाई के लिए बाेरवेल से पानी लिया जाता है। इसके साथ ही एसटीपी में ट्रीटेड पानी का उपयाेग करते हैं। सीवेज के पानी के उपयाेग की बात सही नहीं है। - विसेंट मार्रक्वीस, जनरल मैनेजर, जहांनुमा रिट्रीट

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना