भोपाल / इंटरनेशनल ट्रेंड के आधार पर आईएचएम के छात्र सीखेंगे प्लांट बेस्ड फूड बनाना

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2019, 04:33 PM IST


Plant based food Will learn Make IHM student
X
Plant based food Will learn Make IHM student
  • comment

  • पहली बार शुरू होगी इस तरह की ट्रेनिंग
  • एनसीएचएमसीटी ने मांगे सुझाव 

भोपाल। इंस्टीट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट (आईएचएम) के छात्र पहली बार इंटरनेशनल ट्रेंड के आधार पर प्लांट बेस्ड फूड बनाना सीखेंगे। यह पहल नेशनल काउंसिल फॉर होटल मैनेजमेंट एंड कैटरिंग टेक्नोलॉजी (एनसीएचएमसीटी) ने की है। प्लान के मुताबिक छात्रों को अलग प्रकार से खाना बनाने का तरीका सिखाया जाएगा। इसको लेकर एनसीएचएमसीटी ने आईएचएम से सुझाव भी मांगे हैं। 


क्या है प्लांट बेस्ड फूड: सेब, आलू, कॉर्न, मटर, बींस, बैगन को छीले बिना पकाना है। उदाहरण के तौर पर सेब के छिलके छीले बिना सीधे उसे पकाया जाए। इसमें स्टार्च, नॉन-स्टार्च, फ्रूट, ग्रेन और स्पाइसेस कैटेगरी को अलग-अलग किया गया है। स्टार्च में आलू, कॉर्न, मटर और बींस आती हैं। इसी तरह नॉन स्टार्च में बैगन और टमाटर शामिल हैं। 


 

क्या है फायदा: प्लांट बेस्ड फूड से खाने में जायका बढ़ता है। साथ ही इस तरह से पका भोजन खाने वालों की डाइट भी बढ़ती है। इसके अलावा यह फूड शरीर में कई तरह की क्षमता बढ़ाता है, जो बीमारियों से लड़ने में सहायक है। 


इसलिए लिया ऐसा फैसला: कई देशों में और भारत के कई मेट्रो शहर के होटल्स में इस तरह से सब्जियां पकाने का ट्रेंड है और पर्यटक इसे पसंद भी करते हैं। भविष्य में होटल इंडस्ट्री के अनुसार छात्र खुद को तैयार कर सकें। इसलिए यह निर्णय एनसीएचएमसीटी की ओर से लिया गया है। यह प्रयास सफल रहता है तो यह आगे से कंपल्सरी कर दिया जाएगा। 

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन