--Advertisement--

शास्त्र सम्मत नहीं है पीओपी के गणेश की स्थापना

भोपाल| पंडितों व पर्यावरणविदों का मानना है कि पूजा की पवित्रता बरकरार रहे और पर्यावरण को भी किसी तरह का नुकसान न...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 02:21 AM IST
भोपाल| पंडितों व पर्यावरणविदों का मानना है कि पूजा की पवित्रता बरकरार रहे और पर्यावरण को भी किसी तरह का नुकसान न पहुंचे, इसके लिए ईको फ्रेंडली गणेश प्रतिमाओं की ही स्थापना की जाए। मिट्टी की प्रतिमा का पूजन इसलिए सर्वश्रेष्ठ और शुभ माना जाता है क्योंकि मिट्टी पवित्र होती है और इसमें अग्नि, वायु, जल, आकाश व पृथ्वी जैसे पंच तत्व विद्यमान रहते हैं। इसके अलावा शास्त्रों मे वर्णित है कि स्वयं माता पार्वती ने कच्ची मिट्टी की प्रतिमा बनाकर भगवान गणेश का प्राकट्य किया था।

सबका एक ही मत.... पूजन के लिए मिट्‌टी की प्रतिमा ही श्रेष्ठ






ऐसे पहचानें प्रतिमाओें के बीच अंतर

मिट्टी की प्रतिमा








पीओपी प्रतिमा से नुकसान-इस पर रासायनिक कलर किए जाते है, जो पानी को जहरीला बनाते हैं। कई तरह के चर्म रोग व अन्य घातक बीमारियां हो सकती हैं। पानी में रहने वाले जन्तुओं के जीवन को भी खतरा उत्पन्न हो जाता है।

पीओपी की प्रतिमा








यहां पर मिलेंगी मिट्टी की

गणेश प्रतिमाएं





इन इलाकों में जांचने के बाद ही लें प्रतिमाएं