--Advertisement--

खुलासा / सीरियल किलर आदेश ने कबूले तीन और कत्ल, दो सगे भाइयों को भी मार डाला



आदेश खामरा आदेश खामरा
X
आदेश खामराआदेश खामरा

पुलिस ने उसे मृतकों की आत्मा का भय दिखाया तो उगलने लगा राज

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 03:24 AM IST

भोपाल.  अब तक 30 हत्याएं कबूल चुके सीरियल किलर आदेश खामरा ने तीन और बेकसूर लोगों की जान ली है। पुलिस ने सोमवार देर रात जब आदेश से सख्त पूछताछ की तो उसने बताया कि इन तीन में दो सगे भाई थे, जबकि तीसरा ट्रक ड्राइवर था। इन तीन को मिलाकर वह अब तक 33 हत्याओं का गुनाह कबूल चुका है। इकबालिया बयान में उसने बताया कि वर्ष 2010 में 11 मील से चले ट्रक में उस दिन स्टील रॉड लदी थीं।


गोत्रा कंपनी के ट्रक ड्राइवर राजेश यादव और उसके भाई मनोज यादव को उसने जहर देकर मारा था। एक का शव चलते ट्रक से ब्यावरा से राघौगढ़ के बीच और दूसरे का शव मालनपुर जिला भिंड से 20-25 किमी दूर फेंका था।
डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने बताया कि दोनों भाइयों की गुमशुदगी बैतूल जिले के पाढर चौकी थाना कोतवाली में दर्ज है।

 

भिंड के थाना गोहद चौराहा में अज्ञात मृतक की हत्या का केस दर्ज होना भी मिला है। दूसरा ट्रक भी आदेश ने अपने साथियों के साथ मिलकर लूटा था। सुपारी से भरे इस ट्रक के ड्राइवर को भी उसने नींद की गोली खिलाकर पहले बेहोश किया फिर गमछे से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी थी। लूटा गया ट्रक उसने ग्वालियर के एक दलाल के जरिए बेच दिया था।

 

जिन्हें तूने मारा है, उनकी आत्माएं तेरे खिलाफ : पूछताछ में पुलिस ने उसे डराया। कहा- तुझे क्या लगता है, तेरे बेटे का चार महीने में दो बार एक्सीडेंट कैसे हो गया? जिन बेकसूरों को तूने मार डाला, उनकी आत्माएं तेरे खिलाफ हो गई हैं। ये तेरे जुर्म हैं, जो तेरा बेटा भुगत रहा है।

 

अफसर ने कहा कि प्रायश्चित का एक ही रास्ता बचा है तेरे पास। आज नहीं बताएगा तो तेरे कर्मों की सजा तेरे पूरे परिवार को भुगतनी पड़ेगी। इतना सुनते ही वह एक बार फिर टूट गया। तब उसने तीन और लोगों की हत्या करना कबूल किया।

 

नक्शे पर जगह बताकर खामरा बयां कर रहा अपने जुर्म की दास्तान :  सीरियल किलर आदेश खामरा का हर खुलासा पुलिस के साथ-साथ हर किसी को हैरान कर रहा है। उसने अब तक 33 कत्ल कबूले हैं, लेकिन सभी से सबूत जुटाना पुलिस के लिए मुश्किल काम है। इसके लिए पुलिस इन दिनों आदेश और अपने बीच देश का पॉलिटिकल मैप रखकर पूछताछ कर रही है।

 

पूछताछ की शुरूआत ट्रक लूटने के स्थान से होती है। ट्रक में कितना माल लदा था और लूटने के बाद उसे करीब कितनी रफ्तार से चला रहे थे। उससे हर वारदात में ये भी पूछा जा रहा है कि ट्रक लूटने के कितनी दूर बाद कत्ल किया और कितनी देर बाद शव फेंका गया। 

 

पॉलिटिकल मैप इसलिए सामने रखा जा रहा है, क्योंकि इस पर शहर के छोटे-छोटे मोहल्ले भी दर्शाए जाते हैं। मकसद है कि हर मामले में इतने सबूत जुटाए जा सकें, जो आदेश को सजा दिलवाने में कारगर साबित हों। हर नई जानकारी संबंधित थाना पुलिस को भी दी जा रही है।

 

एसपी साउथ राहुल लोढा के मुताबिक अब तक केवल गोविंदपुरा मेन गेट से लूटे गए ट्रक के ड्राइवर और 11 मील से लूटे गए ट्रक के ड्राइवर के शव अब तक पुलिस को नहीं मिले हैं। अन्य 31 मामलों संबंधित थानों में दर्ज अपराध, मर्ग और गुमशुदगी की जानकारी जुटा ली गई है। 
 

सबसे ज्यादा वारदात एनएच-6 पर की : नक्शा देखने के दौरान सामने आया कि आदेश ने सबसे ज्यादा वारदात एनएच-6 पर की हैं। ये महाराष्ट्र, मप्र, छग और ओडिशा होकर गुजरता है। नागपुर में पेशी से लौटने के दौरान वह इसी रूट पर वारदात करता था।

 

इसके अलावा वह राजगढ़, ब्यावरा, मुंगावली, चंदेरी, गुना, ग्वालियर रूट पर भी वारदात करता था, जो स्टेट हाइवे है। इसका इस्तेमाल वह इसलिए करता था, क्योंकि इस रूट पर टोल नाका नहीं मिलता। जहां मिलता भी था तो वह किसी कच्चे रास्ते से होते हुए टोल नाका पार कर लेता था।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..