--Advertisement--

सात दिनों से असिस्टेंट डायरेक्टर पी रहे थे ज्यादा शराब, दोस्त के घर शादी में जाना था, कार में मिली लाश

आयुक्त जनजाति कार्य विभाग, सतपुड़ा के ज्वाइंट डायरेक्टर सुरेंद्र छारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत।

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 08:25 PM IST
आयुक्त जनजाति कार्य विभाग में पदस्थ असिस्टेंट डायरेक्टर की गाड़ी में मिली लाश। आयुक्त जनजाति कार्य विभाग में पदस्थ असिस्टेंट डायरेक्टर की गाड़ी में मिली लाश।

भोपाल. बागमुगालिया रोड पर शराब दुकान के सामने मंगलवार सुबह आयुक्त जनजाति कार्य विभाग में पदस्थ असिस्टेंट डायरेक्टर की कार में लाश मिलने से सनसनी फैल गई। वे दोस्त के यहां शादी में जाने का कहकर सोमवार को घर से निकले थे। मप्र शासन लिखी कार उनकी थी, लेकिन लाश ड्राइवर के बगल वाली सीट पर मिली है। फिलहाल बागसेवनिया पुलिस मान रही है कि उनकी मौत ज्यादा शराब पीने के कारण हुई होगी, क्योंकि बीते सात दिनों से वे ज्यादा शराब पी रहे थे। हालांकि, असल वजह पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही सामने आ सकेगी।

-मूलत: ग्वालियर निवासी 55 वर्षीय सुरेंद्र कुमार छारी यहां होशंगाबाद रोड स्थित रुचि लाइफ स्केप में पत्नी लक्ष्मी के साथ रहते थे। उनकी पहली पत्नी दुर्गा ग्वालियर में रहती हैं, लेकिन दोनों से ही उन्हें कोई संतान नहीं है। सुरेंद्र सतपुड़ा भवन में असिस्टेंट डायरेक्टर थे। लक्ष्मी ने बताया कि सोमवार सुबह दस बजे सुरेंद्र दोस्त के घर शादी में जाने का कहकर घर से ऑटो से निकले थे। इसके बाद उन्होंने कोई फोन रिसीव नहीं किया। करीब हफ्तेभर से वे ज्यादा शराब पी रहे थे। कई बार पूछा भी, लेकिन उन्होंने कोई वजह नहीं बताई।
नाक और मुंह से निकला था खून
-एएसआई प्रेमचंद्र द्विवेदी के मुताबिक बागमुगालिया रोड पर अंग्रेजी शराब दुकान के सामने एक कार में लाश मिलने की सूचना पर पुलिस मंगलवार सुबह करीब पौने 11 बजे पहुंची थी। कार एमपी 09 सीएल 5246 पर मप्र शासन लिखा था। अंदर ड्राइविंग सीट के बगल में सुरेंद्र छारी का शव बैठी अवस्था में था। नाक और मुंह से खून निकला नजर आया। ग्वालियर से उनका परिवार नहीं आ सका, इसलिए पोस्टमार्टम कल करवाया जाएगा।
ये हो सकती है मौत की वजह
-डॉक्टरों ने अंदाजा लगाया है कि ज्यादा शराब पीने से बढ़े ब्लड प्रेशर के कारण उन्हें हार्ट अटैक आया होगा। या बंद कार में चल रहे एयरकंडीशन के कारण भी उनका दम घुट सकता है, जिसे शायद वे नशे में होने के कारण भांप नहीं पाए।
मेरे 15 कॉल उन्होंने रिसीव नहीं किए
-सुरेंद्र के मुंहबोले भांजे उत्कर्ष नायक ने बताया कि मामा अक्सर ड्राइवर बदला करते थे। घर से निकलने के बाद रास्ते में उन्हें कार समेत ड्राइवर कहां मिला, ये जानकारी नहीं है। सोमवार दोपहर करीब साढ़े तीन बजे मैंने उन्हें 14-15 कॉल किए थे, लेकिन उन्होंने एक भी रिसीव नहीं किया।

अपनी बहन के साथ बैठे असिस्टेंट डायरेक्टर की मौत शराब पीने की वजह से बताई जा रही है। अपनी बहन के साथ बैठे असिस्टेंट डायरेक्टर की मौत शराब पीने की वजह से बताई जा रही है।
पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।
X
आयुक्त जनजाति कार्य विभाग में पदस्थ असिस्टेंट डायरेक्टर की गाड़ी में मिली लाश।आयुक्त जनजाति कार्य विभाग में पदस्थ असिस्टेंट डायरेक्टर की गाड़ी में मिली लाश।
अपनी बहन के साथ बैठे असिस्टेंट डायरेक्टर की मौत शराब पीने की वजह से बताई जा रही है।अपनी बहन के साथ बैठे असिस्टेंट डायरेक्टर की मौत शराब पीने की वजह से बताई जा रही है।
पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..