भोपाल

  • Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • Bhopal - घूमर नृत्य में पेश किया शंकर का विराट स्वरूप, मोहन वीणा वादन भी
--Advertisement--

घूमर नृत्य में पेश किया शंकर का विराट स्वरूप, मोहन वीणा वादन भी

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में आयोजित साप्ताहिक नृत्य संगीत शृंखला उत्तराधिकार में रविवार को मोहन वीणा और...

Danik Bhaskar

Sep 10, 2018, 02:10 AM IST
मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में आयोजित साप्ताहिक नृत्य संगीत शृंखला उत्तराधिकार में रविवार को मोहन वीणा और कथक नृत्य की प्रस्तुति हुई। कार्यक्रम की शुरुआत इटावा घराने के उस्ताद शाहिद परवेज़ के शिष्य मनीष पिंगले ने अपने साथी कलाकारों के साथ मोहन वीणा वादन से की। मनीष ने अपने शिष्य मानस गोसावी के साथ राग श्याम कल्याण में विलंबित तीन ताल में मोहन वीणा की प्रस्तुति दी।

इसके बाद राग श्याम कल्याण में ही द्रुत तीन ताल में धुन पेश की। उन्होंने अपनी प्रस्तुति का अंत राग किरवानी में मनमोहक धुन की प्रस्तुति के साथ किया। प्रस्तुति में तबले पर मनोज पाटीदार ने साथ दिया।

@Tribal Museum

प्रस्तुति में तांडव नृत्य भी

कार्यक्रम के अगले क्रम में मधुमिता राय ने अपने साथी कलाकारों के साथ कथक नृत्य की सामूहिक प्रस्तुति दी। शुरुआत घूमर नृत्य से की। जिसमें शिव के विराट स्वरूप का बखान किया गया। इस प्रस्तुति में ओम शब्द के विराट को संसार के बनने से और अग्नि को ज्ञान से विम्बित कर नृत्य कौशल से ओम शब्द को नृत्य में बताया। इसके बाद कलाकारों ने राग दरबारी में में मुगल दरबार को नृत्य स्वरूप में मंच पर प्रस्तुत किया। इस प्रस्तुति में मुगल दरबार के काम-काज और तौर-तरीकों को प्रस्तुत किया गया। मधुमिता राय ने अपनी नृत्य प्रस्तुति का अंत समानुभव प्रस्तुत किया। इस प्रस्तुति में लास्य और तांडव नृत्य हुआ। माना जाता है कि तांडव जिस तरह शिव के परिपेक्ष्य में है, उसी प्रकार लास्य मां पार्वती के संदर्भ में है।

Click to listen..