मप्र / शताब्दी एक्सप्रेस के यात्री ने ट्वीटर पर लिखा- अखबार की जहरीली इंक की कतरन में खाना, ऐसा लग रहा है जैसे सड़क किनारे समोसे खा रहे हैं...?



शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में खराब खाने की शिकायत। शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में खराब खाने की शिकायत।
शताब्दी एक्सप्रेस में लगातार खराब खाने की शिकायतें मिलती रही हैं। शताब्दी एक्सप्रेस में लगातार खराब खाने की शिकायतें मिलती रही हैं।
X
शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में खराब खाने की शिकायत।शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेन में खराब खाने की शिकायत।
शताब्दी एक्सप्रेस में लगातार खराब खाने की शिकायतें मिलती रही हैं।शताब्दी एक्सप्रेस में लगातार खराब खाने की शिकायतें मिलती रही हैं।

  • यात्री ने ट्वीटर पर लिखी समस्या, यात्रियों को दाल के नाम पर मिल रहा पानी, मटर-पनीर से भी मटर गायब
  • राेजाना आईआरसीटीसी से बुक होते हैं 20 लाख खाने के ऑर्डर, हर रात भोजन की गुणवत्ता को लेकर 35 शिकायतें 

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 12:09 PM IST

भोपाल. हबीबगंज से नई दिल्ली के बीच चलने वाली शताब्दी एक्सप्रेस में तीन दिन पहले यात्रियों को अखबार की कतरन पर खराब गुणवत्ता का खाना परोसे जाने का मामला सामने आया है। एक यात्री की शिकायत पर तत्काल वेंडर के खिलाफ कार्रवाई की गई, लेकिन इससे यात्री को कोई राहत नहीं मिली।

 

ऐसे में सवाल उठता है कि शिकायत पर वेंडर पर कार्रवाई तो हो जाती है, लेकिन फिर यात्री का क्या फायदा हुआ। उसे न तो खाने के रुपए वापस मिले और न ही रेलवे के कारण हुई परेशानी का कोई हर्जाना मिला। गौरतलब है कि खाने की गुणवत्ता को लेकर पहले भी कई बार शिकायतें हो चुकी हैं। कार्रवाई होती है, लेकिन कुछ दिन बाद फिर से गुणवत्ताविहीन खाना यात्रियों को परोसा जाने लगता है। 

 

लिखा- यात्रियों की मटर-पनीर से भी मटर गायब
मामला दो दिन पुराना है। नई दिल्ली से होकर हबीबगंज आने वाली (12001) शताब्दी के यात्री सचिन खरे ने खाने की क्वालिटी और उसे दिए जाने के तरीके पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने भोपाल डीआरएम से लेकर आईआरसीटीसी, रेल सेवा और रेलमंत्री तक को शिकायत की। इसमें उन्होंने लिखा... पानी में दाल मिल नहीं रही, पनीर में मटर गायब है, अखबार की जहरीली इंक की कतरन में भोजन कुछ ऐसा लग रहा है जैसे सड़क किनारे समोसे लेकर खा रहे हैं...? इससे बेहतर किया जा सकता है, शायद। 

 

सिर्फ वेंडर पर जुर्माना

आईआरसीटीसी देश भर में रेल यात्रियों से खाने के ऑर्डर लेती है, उनके पास करीब 35 शिकायतें खाने की क्वालिटी को लेकर ही आती हैं। यह ट्वीटर से लेकर फोन और अन्य माध्यम से पहुंचती हैं। यात्री के शिकायत करते ही आईआरसीटीसी वेंडर पर तत्काल जुर्माना लगा देती है। 

 

खाने की जांच के लिए कंपनी 

आईआरसीटीसी ने खाने की क्वालिटी की जांच के लिए एक कंपनी को हायर किया है। आईआरसीटीसी के अधिकारी सिर्फ किचन में खाना बनाने की प्रक्रिया व उसमें उपयोग होने वाले मटेरियल की जांच करते हैं। कंपनी के कर्मचारी खाने को चखकर उसकी रिपोर्ट तैयार करके रेलवे को सौंपते हैं।

 

ऑनलाइन वीडियो चलते हैं 
आईआरसीटीसी के पीआरओ सिद्धार्थ सिंह ने कहा कि खाने की क्वालिटी को लेकर रोज देशभर से करीब 35 शिकायतें आती हैं। यात्री के शिकायत करते ही वेंडर के खिलाफ कार्रवाई की जाती है। तय मापदंड पर ही खाना तैयार किया जाता है। किचन के ऑनलाइन वीडियो चलते रहते हैं।

 

23 मई को देखिए सबसे तेज चुनाव नतीजे भास्कर APP पर 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना