• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Shivraj said that the letters did not come out by writing, now they will meet Kamal Nath to explain the problems

मध्यप्रदेश / शिवराज ने कहा- चिट्ठियां लिखकर नहीं निकला हल, अब कमलनाथ से मिलकर बताउंगा समस्याएं

Dainik Bhaskar

Feb 11, 2019, 03:10 PM IST


पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान।
X
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान।पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान।
  • comment

  • बोले- अगर किसानों की समस्या पर फिर भी नहीं सुधार तो करुंगा आंदोलन 

भोपाल. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों के मुद्दे पर सरकार को चेताया है। उन्होंने कहा कि अगर किसानों की हालत में सुधार नहीं हुआ तो वह आंदोलन करेंगे। किसानों की बदहाली को लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ को चिट्ठियां लिखकर सूचित कर चुके हैं, लेकिन कोई हल नहीं निकला। अब वह खुद मुख्यमंत्री से मिलेंगे। सूत्र बताते हैं कि 13 को पूर्व सीएम शिवराज की सीएम कमलनाथ से मुलाकात हो सकती है। 

 

पूर्व सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री से मिलूंगा, लेकिन अगर तब भी किसानों की समस्याओं का हल नहीं निकला तो मेरे पास किसानों की समस्या दूर करने के लिए अंतिम उपाय आंदोलन ही होगा। आंदोलन करूंगा और ये जब तक चलेगा, जब तक कि किसानों की समस्याएं हल नहीं हो जाती हैं। रविवार को सिवनी के बरघाट पहुंचे शिवराज ने किसानों की धान खरीदी पर भी सवाल उठाए थे। 

 

उन्होंने 55 लाख किसानों की कर्जमाफी पर कहा कि कमलमाथ से मिलकर किसानों की समस्यायों को लेकर चर्चा करुंगा। कर्जमाफी में सरकार का अलग अलग बयान सामने आता है, कभी 35 लाख तो कभी 55 लाख कहा जा रहा है। 

10 दिन में सरकार ने कर्जमाफी का वादा किया था, लेकिन दो महिने हो गए है और अब तक किसानों का कर्जा माफ नही हुआ है। अगर ऐसा ही चलता रहा और किसानों की समस्या नही सुलझी तो भाजपा आंदोलन करेगी। 

 

सिवनी के बरघाट में शिवराज ने किसानों की धान खरीदी केंद्र पर किसानों को हो रही परेशानी पर भी नाराजगी जाहिर की थी। कहा था कि धान से लेकर उड़द तक हर फसल वाला किसान परेशान है। 40 किलो प्रति बोरी धान लेने के बजाय 41 किलो 200 ग्राम प्रति बोली धान तौली जा रही है| न तो धान खरीदी हो रही है और न ही तौली जा रही है। किसानों की फसल खुले में पड़ी है। 

COMMENT
Astrology
Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें