भोपाल

--Advertisement--

स्टूडेंट्स ने पेड़ की पत्तियों, घास से नेचुरल टेक्श्चर बनाना सीखा

लोगों के घरों में बहुत ऐसे सामान पड़े रहते हैं, जो उपयोगहीन होते हैं, रंगकर्मी ऐसे सामान का उपयोग नाटक के लिए...

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2018, 02:12 AM IST
Bhopal - स्टूडेंट्स ने पेड़ की पत्तियों, घास से नेचुरल टेक्श्चर बनाना सीखा
लोगों के घरों में बहुत ऐसे सामान पड़े रहते हैं, जो उपयोगहीन होते हैं, रंगकर्मी ऐसे सामान का उपयोग नाटक के लिए कॉस्टयूम और अन्य सामग्री डिजाइन करते हैं। ये बात वरिष्ठ कलाकार अंबा सानियाल ने सोमवार को एमपीएसडी की वर्कशॉप में कही। वर्कशॉप में एमपीएसडी के स्टूडेंट्स को कलर साइकोलॉजी और नेचुरल टेक्श्चर के बारे में बताया गया। स्टूडेंट्स ने पेड़ की पत्तियां, घास, फूल का उपयोग करके नेचुरल टेक्श्चर बनाना सीखा। यहां स्टूडेंट्स ने रेत का इस्तेमाल कर टेक्श्चर किया। पत्ती और फूलों का इस्तेमाल भी किया गया। स्टूडेंट्स को कॉस्टयूम बनाते समय उपयोग किए जाने वाले कपड़ों की जानकारी दी गई।

स्टूडेंट्स को सिखाई गई कलर साइकोलॉजी

स्टूडेंट्स को कलर साइकोलॉजी की जानकारी भी दी गई, इसके माध्यम से स्टूडेंट्स ने किताबों में कैरेक्टर और इमेजनरी कैरेक्टर को कलर में दिखाया। इसमें कैरेक्टर के मूड को भी व्यक्त किया। इस वर्कशॉप में कई स्टूडेंट्स मौजूद रहे।

X
Bhopal - स्टूडेंट्स ने पेड़ की पत्तियों, घास से नेचुरल टेक्श्चर बनाना सीखा
Click to listen..