--Advertisement--

मेडिटेशन है मेरा सक्सेस मंत्र, साफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती हूं: 10वीं की टॉपर अनामिका का सपना

एमपी बोर्ड परीक्षा में10वीं विदिशा की अनामिका साध और शाजापुर के हर्षवर्धन परमार ने टॉप किया।

Danik Bhaskar | May 15, 2018, 02:18 PM IST

भोपाल. एमपी बोर्ड परीक्षा में10वीं में स्टेट में टॉप करने वाली अनामिका साध हर रोज 8 किमी का सफर तय कर रोज विदिशा के स्कूल पहुंचती थीं। भास्कर से खास बातचीत में अनामिका कहती हैं, कि उनका सक्सेस मंत्र मेडिटेशन है। उन्होंने कहा, टॉप करना मुश्किल काम नहीं है। समय से प्रिपरेशन करते रहना जरूरी है। रिजल्ट्स अच्छे ही आएंगे। छात्रा अनामिका साध ने बताया कि उसके पिता अनिल साध सांची के शासकीय स्कूल में टीचर हैं। अनामिका ने 99 फीसदी अंक लाकर टॉप किया।

हर रोज सुबह 5-7 पढ़ाई
-अनामिका के पिता टीचर हैं और अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता को देती हैं। वह कहती हैं कि नियमित रूप से सुबह 5 से 7 बजे तक पढ़ाई करती थीं। यह पढ़ाई उन्होंने साल भर की। अनामिका जेईई की तैयारी कर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती हैं।

नौसेना में अफसर बनना चाहता है हर्ष
-सरस्वती विद्या मंदिर कालापीपल के ही हाईस्कूल 10वीं के छात्र हर्षवर्धन परमार ने अनामिका के साथ ही एमपी में टॉप किया है। उसने भी 99 फीसदी अंक हासिल किए हैं। हर्षवर्धन परमार के पिता दूध का व्यवसाय करते हैं। कड़ी मेहनत से परिवार चलाते हैं। हर्षवर्धन ने पिता की मदद भी करनी चाही। किंतु पिता ने हर बार पढ़ाई में ही मन लगाने को कहा।
-हर्ष ने मेरिट में आकर उनका नाम रोशन किया। वह नौसेना में अफसर बनना चाहता है। इसके लिए वह आगे की पढ़ाई को लेकर फिलहाल करियर संबंधी मार्गदर्शन ले रहा है।

अनामिका के साथ ही शाजापुर के हर्षवर्धन परमार ने भी 99 फीसदी अंकों के साथ टॉप किया है। अनामिका के साथ ही शाजापुर के हर्षवर्धन परमार ने भी 99 फीसदी अंकों के साथ टॉप किया है।