• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • The class partner project will be implemented in two districts to improve the standard of education; Children will have

मप्र / शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए दो जिलों में लागू होगा कक्षा साथी प्रोजेक्ट; बच्चों का होगा रियल टाइम मूल्यांकन



मप्र सरकार बच्चों का रियल टाइम मूल्यांकन करने के लिए प्रोजेक्ट साथी की शुरुआत करने जा रही है। मप्र सरकार बच्चों का रियल टाइम मूल्यांकन करने के लिए प्रोजेक्ट साथी की शुरुआत करने जा रही है।
X
मप्र सरकार बच्चों का रियल टाइम मूल्यांकन करने के लिए प्रोजेक्ट साथी की शुरुआत करने जा रही है।मप्र सरकार बच्चों का रियल टाइम मूल्यांकन करने के लिए प्रोजेक्ट साथी की शुरुआत करने जा रही है।

  • दक्षिण कोरिया के सहयोग से भोपाल के 5 और रायसेन के 7 स्कूलों से शुरू होगा प्रोजेक्ट
  • इसकी शुरुआत 14 नवंबर को स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी करेंगे, एप लांच होगा

Dainik Bhaskar

Nov 13, 2019, 06:51 PM IST

भोपाल. मप्र सरकार दक्षिण कोरिया के सहयोग से शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए प्रोजेक्ट साथी शुरू करने जा रही है। इस पायलट प्रोजेक्ट के रूप में सबसे पहले रायसेन के 7 स्कूल और भोपाल के 5 स्कूलों में लागू किया जाएगा। इसके तहत एप से मूल्यांकन किया जाएगा।

 

इसकी शुरुआत 14 नवंबर को स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी करेंगे। परियोजना से बच्चों का रियल टाइम मूल्यांकन किया जा सकेगा। इसके लिए मोबाइल एप एवं क्लिकर का उपयोग कर शिक्षक पाठ पढ़ाने के बाद छात्रों का तुरंत मूल्यांकन कर सकेंगे। एप पर पाठ्यक्रम से संबंधित विषयवस्तु के बहु-विकल्पीय प्रश्नों को शिक्षक छात्रों से पूछेंगे। 

 

स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा, "इस परियोजना में रायसेन जिले के सात और भोपाल जिले के पांच शासकीय विद्यालयों को दक्षिण कोरिया की टैग हाइव संस्था के सहयोग से प्रारंभ की जा रही 'कक्षा साथी परियोजना' में शामिल किया गया है।" 

 

एप पर शिक्षक पूछेंगे सवाल, छात्र देंगे जबाव

चौधरी का दावा है, "एप पर पाठ्यक्रम से संबंधित विषय-वस्तु के बहु-विकल्पीय प्रश्नों को शिक्षक छात्रों से पूछेंगे और छात्र उनका जवाब क्लिकर के जरिए तुरंत देंगे। शिक्षक दिए गए जवाब के माध्यम से यह जान सकेंगे कि पढ़ाए गए पाठ को छात्रों ने कितना सीखा एवं कितने छात्रों ने सही जवाब दिया। सही जवाब नहीं देने वाले छात्रों का तुरंत विश्लेषण कर सुधार की योजना बनाई जाएगी। इस प्रायोगिक परियोजना का सम्पूर्ण व्यय सीएसआर के अंतर्गत विभिन्न कंपनियों द्वारा वहन किया जाएगा।"

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना