--Advertisement--

पुनर्वास / बाघों को भोपाल से दूर रखने के लिए दो वन-ग्रामों को शिफ्ट करेंगे



To keep tigers away from Bhopal, two forest villages will shift
X
To keep tigers away from Bhopal, two forest villages will shift
  • रातापानी सेंचुरी के कैरी चौका और जैतपुर गांवों को शिफ्ट करेंगे 

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 06:24 PM IST

भोपाल. भोपाल और सीहोर वन मंडल से बाघों को दूर रखने के लिए वन विभाग अब नए सिरे से प्रयास शुरू हो गए हैं। रातापानी सेंचुरी के दो गांवों को शिफ्ट करने के बाद बाघों रहने के लिए अनुकूल वातावरण तैयार किया जाएगा।

 

भोपाल फारेस्ट सर्किल में घूम रहे बाघों के लिए लांग टर्म एक्शन प्लान पर काम शुरू हो गया है। रातापानी में बाघों के मूवमेंट के लिए अधिक जगह मिले इसके लिए सेंचुरी से दो अन्य गांवों को भी विस्थापित किया जा रहा है। जिसमें कैरी चौका और जैतपुर शामिल है। वन विभाग यहां के लोगों से भी अपनी लिखित सहमति ले रहा है। इसके लिए काम शुरू हो गया है। पहले इस सेंचुरी से वनग्राम दांत-खोह को शिफ्ट किया गया था। रातापानी सेंचुरी से आठ गांवों को शिफ्ट किया जाना है।

 

दांत-खोह में तैयार हो रहा ग्रासलैंड : रातापानी सेंचुरी से विस्थापित किए गांव वाले इलाके में 4 सौ हैक्टेयर में ग्रास लैंड तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा यहां तालाब बनाया जा रहा है। रातापानी अभयारण्य 985 वर्ग किलोमीटर में फैला है। यहां बाघों की संख्या 24 हो गई है। विशेषज्ञों के मुताबिक बाघ की टेरेटरी 30 वर्ग किलोमीटर और होम रेंज 50 से 100 वर्ग किलोमीटर की होती है। एक बाघ हफ्ते में औसत दो जानवरों का शिकार करता है। यहां पर शाकाहारी सहित अन्य वन्य प्राणियों की संख्या तकरीबन 2500 है।

 

भोपाल की ओर बढ़ रहे बाघों को जंगल के अंदर ही रोकने के लिए लांग टर्म एक्शन प्लान पर काम शुरू हो गया है। जिसमें गांवों के विस्थापन से लेकर ग्रास लैंड, स्टॉप डेम, तालाब बनाने का काम शुरू हो गया है। दोनों के परिवारों की हर यूनिट यानि व्यक्ति की गिनती, भूमि का आंकलन किया जा रहा है।

एसपी तिवारी, चीफ कंजरवेटर, भोपाल फारेस्ट सर्किल

 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..