मप्र / विदिशा में चंदेरी नदी में बहे पंचायत सचिव और बस कंडक्टर, बेतवा में दो युवक बहे, रतलाम में डॉक्टर की कार खाई में गिरी



X

Dainik Bhaskar

Aug 19, 2019, 02:48 PM IST

मंडीदीप/रतलाम/सागर/विदिशा ।  बारिश से राहत मिलने के बाद भी प्रदेश की कई नदियां उफान पर हैं। विदिशा जिले की लटेरी तहसील में शनिवार शाम दो लोग नदी में बह गए। एसडीआरएफ और पुलिस की 16 घंटे खोजबीन के बाद पंचायत सचिव का शव मिला है, वहीं साथी अब तक लापता है। 

 

वहीं, भोपाल रोड पर रामखेड़ी गांव के पास रविवार को उफनती बेतवा नदी में नहाने के लिए उतरे जाटखेड़ी दाे युवक लल्लू 45 और उसका साथी मकबूल 28  जाटखेड़ी डूब गए हैं। इनको खोजने में उमरावगंज थाने की पुलिस और गोताखोर लगे हुए हैं, लेकिन तेज बारिश के कारण नदी में डूबे युवकों को तलाश करने में दिक्कत आ रही है।

 

जानकारी के अनुसार शनिवार शाम गुना जिले के मधुसूदन गढ़ से लटेरी तरफ पैदल आ रहे सुनखेर ग्राम पंचायत के सचिव संजीव विश्वकर्मा और स्टैंड कंडक्टर नरेश शर्मा चंदेरी नदी में बह गए। दोनों को लोगों ने नदी पार करने मना भी किया था। घटना का वीडियो भी सामने आया है। बताया जाता है कि चंदेरी नदी गुना में जाकर पार्वती नदी में मिलती है। पार्वती नदी भी उफान पर है। सोमवार को प्रशासन ने रेस्क्यू शुरू किया लेकिन दोपहर तक दोनों का कोई पता नहीं चला सका। दोनों ही लटेरी के निवासी थे। दोनों को तलाशने के लिए एक टीम पार्वती नदी में भी भेजी गई है। 

 

इधर, सागर में दोनों युवक सिमरोदा गांव में अपने रिश्तेदारों के यहां पर आए थे। गांव लौटते समय वे नदी में नहाने के लिए उतर गए। नदी में बहाव तेज होने से दोनों गहरे पानी में डूब गए। रतलाम जिले में  शनिवार देर रात बोरखेड़ा के पास नांदलेटा निवासी दिग्विजयसिंह सिसौदिया (32) की कार पुलिया से नीचे जा गिरी। डॉक्टर की मौत हो गई। सागर के भडराना गांव में रविवार को तालाब मे डूबने से दो सगी बहनों की मौत हो गई।

 

टापू पर फंसे 53 लाेगाें काे निकाला :  मुरैना में भी चंबल में उफान के कारण रविवार को पोरसा क्षेत्र के तीन गांव रामगढ़, इंद्रजीत का पुरा, सुखध्यान का पुरा घिर गए। रास्ता नहीं होने से 50 से अधिक ग्रामीण गांव के बाहर बने टापू पर चढ़ गए। 4 घंटे की मशक्कत के बाद मोटर बाेट से सुरक्षित बाहर निकाला गया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना