• Hindi News
  • Mp
  • Bhopal
  • Valmi management's decree If you want to go to the colony, then get passed first, only then you will get entry

मप्र / वाल्मी प्रबंधन का फरमान- कॉलोनी में जाना है तो पहले पास बनवाओ, तभी मिलेगी एंट्री



Valmi management's decree - If you want to go to the colony, then get passed first, only then you will get entry
X
Valmi management's decree - If you want to go to the colony, then get passed first, only then you will get entry

  • राजहर्ष सी-सेक्टर की परेशानी और बढ़ी... क्योंकि 4 बैठकें...10 प्लान के बाद भी नहीं मिला रास्ता, अब...

Dainik Bhaskar

Nov 13, 2019, 04:21 AM IST

भोपाल . वाल्मी के पास बनी राजहर्ष सी सेक्टर कॉलोनी की एप्रोच रोड का विवाद सुलझा नहीं है, बल्कि उलझता ही जा रहा है। वाल्मी प्रबंधन ने राजहर्ष सी-सेक्टर के रहवासियों के लिए नया फरमान जारी कर दिया है। इसके तहत रहवासियों को उनके निर्माणाधीन मकान तक जाने के लिए वाल्मी प्रबंधन के दफ्तर से एंट्री पास बनवाना होगा। इसको दिखाने के बाद ही कॉलोनी के भीतर एंट्री दी जाएगी। वाल्मी प्रबंधन की मनमानी की शिकायत रहवासियों ने जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा से की है। इस पर उन्होंने आश्वासन दिया है कि उनकी समस्या का जल्द हल निकाल लिया जाएगा। 


दरअसल, पिछले दिनों रास्ते का विवाद सुलझाने के लिए संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने सीपीए और वाल्मी प्रबंधन की बैठक बुलाई थी, इसमें सीपीए ने प्रस्ताव रखा था कि रास्ते का विवाद सुलझाने के लिए कलियासोत नदी पर तैयार पांच करोड़ के ब्रिज को एप्रोच रोड की जगह अब एलिवेटेड रोड से जोड़ा जाएगा। इसके लिए सीपीए एक एलिवेटेड रोड बनाएगा। इसमें दो सब वे भी बनाए जाएंगे, जिसका उपयोग वाल्मी प्रबंधन द्वारा किया जाएगा। लेकिन कुछ दिनों पहले वाल्मी प्रबंधन के नए फरमान ने रहवासियों की परेशानी बढ़ा दी है। 

 

पांच करोड़ का वाल्मी ब्रिज .... 1 साल से तैयार है, लेकिन एप्रोच रोड के इंतजार में रहवासी घूमकर जाने काे हैं मजबूर

 

समाधान के लिए बैठक पर बैठक...लेकिन रास्ता नहीं

  •  हली बैठक... तय हुआ था कि वैकल्पिक मार्ग चालू रहेगा और उसी को परमानेंट कर देंगे। सात फीट की दीवार बना देंगे। 
  •  दूसरी बैठक... तय हुआ कि रहवासियों को दूसरा रास्ता देंगे जोकि वाल्मी की दीवार से लगकर जाएगा और इसका काम वाल्मी प्रबंधन करेगा। उसके आगे का रोड को सीपीए बनाएगा जो कि एक्सीलेंस कॉलेज के भीतर से गुजरेगा। यहां से लोग सीधे यह चूनाभट्टी जा सकेंगे।
  •  तीसरी बैठक... वाल्मी प्रबंधन ने फिर आश्वासन दिया था कि 15 दिन में एप्रोच रोड बनाकर देंगे, जो चार महीने बाद भी अधूरी है। 
  •  चौथी बैठक... तय किया गया कि कलियासोत ब्रिज को एलिवेटेड रोड बनाकर एक्सीलेंस कॉलेज को जोड़ने वाली रोड तक बनाया जाएगा।

जिम्मेदारों का तर्क

पीएस और कलेक्टर से बात करूंगा 
 राजहर्ष सी सेक्टर कॉलोनी मेरी विधानसभा क्षेत्र में आता है। इस मामले में रहवासी शिकायत लेकर पहुंचे थे। इस बारे में वाल्मी की डायरेक्टर उर्मिला शुक्ला से बात की गई है। उनको बता दिया गया है कि जब यहां पर रास्ता था तो जबरन रहवासियों को क्यों परेशान किया जा रहा है। रास्ते का विवाद सुलझाने के लिए कलेक्टर से बात की जाएगी। साथ ही ग्रामीण एवं पंचायत विभाग की प्रमुख सचिव गौरी सिंह से इस बारे में बात करुंगा। 
पीसी शर्मा, मंत्री जनसंपर्क विभाग 


इस बारे में वाल्मी से बात करेंगे 
 अफसरों की बैठक में यह तय हो गया है कि यहां पर एलिवेटेड रोड बनाया जाना प्रस्तावित है, लोगों को बिना पास के एंट्री दी जाए। इस बारे में वाल्मी प्रबंधन से बात की जाएगी। 
तरुण पिथोड़े, कलेक्टर

 

रास्ते पर लग गई नई शर्त 

 जिंदगी भर की कमाई प्लाॅट खरीदने में लगा दी, जब मकान बनाने की बारी आई तो वाल्मी प्रबंधन ने रास्ता रोक दिया। जैसे-तैसे रास्ता खुला अब नई शर्त लगा दी कि एंट्री तब मिलेगी जब पास बनेगा। बिना पास के एंट्री नहीं दी जाएगी।  जितेंद्र सिंह, रहवासी

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना