--Advertisement--

दिसंबर में शादी के 3 मुहूर्त, फिर भी घोड़ी नहीं चढ़ पाएंगे दूल्हे, इस वजह से घोड़ी की नहीं हो रही बुकिंग

किसी ने ओपन कार बुक कर ली तो किसी को है और कुछ की तलाश।

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 03:37 PM IST
grooms will not ride horse in their wedding in december due to lifethreating disease glanders found in horses in bhopal mp

भोपाल। शादियों का सीजन शुरू होने वाला है लेकिन इस दौरान दूल्हे राजा घोड़ी नहीं चढ़ पाएंगे। दरअसल, शहर में घोड़ों में ग्लेंडर्स बीमारी के कारण इनके उपयोग पर मई से ही प्रतिबंध है। 20 सितंबर को ग्लेंडर्स पॉजिटिव मिलने पर घोड़े की कलिंग (जहर का इंजेक्शन लगाकर मारना) की गई थी। ऐसे में अगले तीन महीने यानी 20 दिसंबर तक घोड़ों का उपयोग प्रतिबंधित रहेगा। यही वजह है कि दिसंबर में 8-10 और 11 तारीख को हाेने वाली शादियों के दौरान दूल्हे घोड़ी नहीं चढ़ पाएंगे।

ग्लेंडर्स लाइलाज और जानलेवा बीमारी है। यह अश्व प्रजाति (घोड़े, खच्चर और गधे) में होती है। केंद्र सरकार की गाइडलाइन के तहत ग्लेंडर्स की पुष्टि होने पर घोड़ों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया जाता है। प्रतिबंध के दौरान घोड़ों का उपयोग न हो, इसकी जिम्मेदारी नगर निगम की है। राजधानी में करीब 1000 घोड़े हैं।


मई में पहला केस
शहर में ग्लेंडर्स का पहला केस मई में सामने आया था। तब काजीकैंप निवासी रहमान के घोड़े में ग्लेंडर्स की पुष्टि हुई थी। इसके बाद नौ घोड़ों में ग्लेंडर्स मिला। यह संक्रामक रोग है। इसके बैक्टीरिया सेल में प्रवेश करते हैं, जो इलाज से भी पूरी तरह नहीं मरते हैं। ऐसे में दूसरे जानवर और इंसान भी इसकी चपेट में आ जाते हैं।


विकल्प : किसी ने ओपन कार बुक कर ली तो किसी को है तलाश
राजहर्ष कॉलोनी निवासी रवि शर्मा की 10 दिसंबर को शादी होनी है। तैयारियां हो चुकी हैं। लेकिन, घोड़ी की बुकिंग नहीं होने से अब ओपन कार का बंदोबस्त किया गया है। वहीं, बागमुगालिया निवासी वीरेंद्र रघुवंशी की बेटी की शादी 8 दिसंबर को है। इटारसी से बारात आएगी। गार्डन और बैंडबाजे की बुकिंग हो चुकी है, लेकिन दूल्हे के लिए घोड़ी नहीं मिली, अब ओपन कार की तलाश है।


फिर लेंगे सैंपल, रिपोर्ट निगेटिव आई तो जनवरी में हट सकता है प्रतिबंध
ग्लेंडर्स पॉजिटिव घोड़े की कलिंग के तीन महीने बाद दोबारा घोड़ों के ब्लड सैंपल लिए जाएंंगे। सभी सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही प्रतिबंध हटाया जाएगा। 20 दिसंबर के बाद पशु चिकित्सा विभाग निगम अमले के साथ मिलकर दोबारा घोड़ों के ब्लड सैंपल लेगा। ये सैंपल जांच के लिए हरियाणा के हिसार स्थित अश्व अनुसंधान केंद्र की प्रयोगशाला भेजे जाएंगे। रिपोर्ट निगेटिव आने पर जनवरी में घोड़ों के उपयोग से प्रतिबंध हटने की उम्मीद है।


अब तक : नौ घोड़ों की कलिंग
राजधानी में ग्लेंडर्स का पहला केस मई में सामने आया था। तब बाफना कॉलोनी काजीकैंप निवासी रहमान के घोड़े में ग्लेंडर्स की पुष्टि हुई थी। इसके बाद नौ घोड़ों में ग्लेंडर्स पाया गया। पशु चिकित्सा विभाग और नगर निगम की टीम ने इन घोड़ों की कलिंग की है। आखिरी कलिंग श्यामला हिल्स निवासी राजेश यादव के घोड़े की हुई थी।


रोक के चलते घोड़ी की नहीं हो रही बुकिंग


लोग बैंड के साथ ही बग्गी और घोड़ी की मांग कर रहे हैं। ज्यादातर घोड़ी वालों ने हाथ खड़े कर दिए हैं। ऐसे में बुकिंग नहीं ले रहे हैं।

- दिलावर ओसवाल, संचालक, राजश्री बैंड

मेेरे एक घोड़ी की कलिंग 20 सितंबर को की गई। अब मेरे पास 4 घोड़े ही बचे हैं। दिसंबर और जनवरी में मुहूर्त हैं, लेकिन प्रतिबंध के कारण बुकिंग नहीं ले रहे हैं।

- राजेश यादव, घोड़ी वाले

अभी घोड़ों के उपयोग पर प्रतिबंध है। यह दिसंबर-जनवरी तक जारी है। रिवाइज सेंपलिंग में रिपोर्ट निगेटिव आती है तो प्रतिबंध हटेगा।

- डॉ. एसके श्रीवास्तव, पशु चिकित्सक, नगर निगम


दिसंबर में फिर सैंपलिंग होगी। रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही प्रतिबंध हटेगा। इसके बाद ही उपयोग संभव होगा।

- डॉ. जयंत तपासे, एडिशनल डिप्टी डायरेक्ट, राज्य पशु रोग अन्वेषण प्रयोगशाला

X
grooms will not ride horse in their wedding in december due to lifethreating disease glanders found in horses in bhopal mp
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..