--Advertisement--

मौसम / कश्मीर में हुई बर्फबारी का असर, ग्वालियर में 10 डिग्री पर पहुंचा पारा, भोपाल में भी लगने लगी सर्दी



weather news mp
X
weather news mp

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2018, 12:15 PM IST

भोपाल। कश्मीर में हो रही बर्फबारी का असर बीते दो दिन में पूरे प्रदेश पर दिखने लगा है। सभी जिलों में तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। दिपावली की रात से सर्दी का अहसास होने लगा है। कश्मीर में बर्फबारी हो रही है। इस कारण घाटी की ओर से आने वाली हवाओं के असर के कारण

रात में कंपकंपा देने वाली सर्दी शुरू हो गई है। पिछले 48 घंटों में राजधानी का न्यूनतम तापमान में करीब तीन डिग्री (2.7 डिग्री) सेल्सियस की गिरावट दर्ज हुई। इसका असर यह हुआ कि सुबह और शाम के मौसम में ठंडक घुल गई है। 


भोपाल: गुरुवार को राजधानी का न्यूनतम तापमान 12.7 डिग्री सेल्सियस तक आ गया। ऐसे में दीपावली की रात इस सीजन की सबसे सर्द रात के तौर पर दर्ज हुई। न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम यानी 12.7 डिग्री दर्ज हुआ। यह बुधवार के मुकाबले 1.7 डिग्री सेल्सियस कम था। यही नहीं अधिकतम तापमान में दूसरे दिन भी गिरावट जारी रही। तापमान 0.5 डिग्री सेल्सियस गिरकर 29 डिग्री सेल्सियस पर आ गया। यह सामान्य से 1.2 डिग्री सेल्सियस कम था। 

 

अच्छी लगने लगी धूप : ऐसे में दिन में अब लोगों को धूप अच्छी लगने लगी है। खासकर सुबह और शाम के वक्त लोग धूप का आनंद लेते नजर आए। पूर्व वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक एसके नायक ने बताया कि हवा का रुख उत्तरी है। जम्मू कश्मीर में हल्की बर्फबारी हुई है। इस कारण मौसम में ठंडक बढ़ी है। वेस्टर्न डिस्टरबेंस जम्मू में है। अब यह हिमालय की तराई की ओर आगे बढ़ेगा। इस दौरान हवा का रुख उत्तरी रहा तो एक-दो दिन बाद ठंडक में और इजाफा होने के आसार हैं। मौसम वैज्ञानिकाें की मानें तो एक-दो दिन बाद न्यूनतम तापमान में और गिरावट आएगी। 


ग्वालियर: गुरुवार की तरह शुक्रवार को भी सुबह से सर्द हवा चलने के साथ धुंध छायी रही। 8 नवंबर के तापमान की तुलना की जाए तो पिछले 5 साल का रिकॉर्ड टूट गया है। इतना ही नहीं, दिन और रात के तापमान में तीन गुने का अंतर दर्ज किया गया है। तापमान गिरने के कारण शाम होते ही सर्दी लगने लगती है। मौसम विज्ञानियों की मानें तो आगामी 24 घंटे में दिन और रात के तापमान में गिरावट आएगी। 

 

इस बार सात दिन पहले : ग्वालियर-चंबल संभाग में आमतौर पर 15 नवंबर के बाद तापमान में गिरावट आना शुरू होती है लेकिन इस बार 7 नवंबर से ही तापमान गिरना प्रारंभ हो गया है। 7 नवंबर को न्यूनतम तापमान 9.2 डिग्री सेल्सियस रहा था। बुधवार को न्यूनतम तापमान 4 डिग्री गिरकर 9.2 डिग्री सेल्सियस रह गया था। बुधवार को न्यूनतम तापमान में मामूली बढ़ोतरी देखी गई। गुरुवार को न्यूनतम तापमान 10 डिग्री पर पहुंच गया।

 

तापमान गिरते ही स्वाइन फ्लू का बढ़ा खतरा 
तापमान में गिरावट आने के साथ डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया के बाद स्वाइन फ्लू की बीमारी बढ़ने का खतरा मंडराने लगा है। दिन का तापमान जब 25 डिग्री सेल्सियस से कम और न्यूनतम तापमान 12 डिग्री सेल्सियस से कम रहता है तो इस तापमान में स्वाइन फ्लू का वायरस सक्रिय हो जाता है। इसलिए डॉक्टरों ने सर्दी के इस मौसम में विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी है। 

 

बच्चों को गर्म कपड़े पहनाएं, सर्दी से रखें बचाव 

- तापमान गिरने से सर्दी, खांसी, जुकाम, निमोनिया व अस्थमा के मरीज बढ़ेंगे। बच्चों को गर्म कपड़े पहनाएं और सर्दी से बचाव रखें। 
- तापमान में गिरावट आने से हार्ट और ब्रेन अटैक की संभावना बढ़ जाती है। फिब्रीनोजन नामक पदार्थ शरीर में सर्दी के मौसम में बढ़ जाता है जो क्लोटिंग बढ़ाता है। इससे खून गाढ़ा हो जाता है और खून का थक्का जमने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए सर्दी से बचाव रखें, नियमित दवा लें और सिर ढंक कर रखे। 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..